जानिए सपने में अपने पूर्वजों को देखने का क्या मतलब होता है?

सपने हर किसी को आते है। हर सपनों का मतलब और उनका फल होता है। वैज्ञानिकों के अनुसार, सपने हमारी हीं सोच का हिस्सा है, जो हम चाहते है कि भविष्य में हमें मिल जाये। दिन में हम जो कुछ भी देखते या सोचते हैं वही हमें सपने के रूप में दिखाई देते हैं, ऐसा वैज्ञानिकों का मानना है।

बाल देखना

वहीं ज्योतिष शास्त्र कहता है कि हर सपने का कोई न कोई मतलब और उनका अर्थ होता है। सपने हमारे आने वाले भविष्य का आइना है, वो हमें आने वाली मुसीबत के लिए पहले से चेतावनी देते है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, रात में देखे गए सपने हमारे भविष्य के बारे में कुछ न कुछ कहते हैं। जबकि भोर में देखे गए सपने निकट भविष्य में जरूर सच होते हैं।

कई बार हम बुरे सपने देख कर डर जाते हैं और हमें समझ में हीं नहीं आता है कि इस सपने का क्या मतलब होगा। इसलिए आज मैं यहाँ हमेशा दिखने वाले सपने की एक छोटी सी लिस्ट दे रहा हूँ, इनको पढ़ कर आप अपने सपने को बहुत हद तक समझ सकते हैं।


सपने का मतलब


स्वप्न फल “ध”


बाल देखना

1) धमाका सुनना – कष्ट बढ़े
2) धतूरा खाना – संकट से बचना
3) धनिया हरा देखना – यात्रा पर जाना
4) धनुष देखना – सभी कर्मों में सफलता मिले
5) धब्बे देखना – शुभ संकेत
6) धरोहर लाना या देखना – व्यापार में हानि होना
7) धार्मिक आयोजन देखना – शुभ संकेत
8) धागा देखना – कार्य में वृद्धि होना
9) धुरी देखना – मान सम्मान में वृद्धि होना
10) धुंआ देखना – कष्ट बढे, परेशानी में फंसना
11) धुंध देखना – शुभ समाचार मिले
12) धुन सुनना – परेशानी बढे
13) धूमधाम देखना – परेशानी बढे
14) धूल देखना – यात्रा होना
15) धोबी देखना – काम में सफलता मिले
16) धोती देखना – यात्रा पर जाना पड़े
17) धमाका होना – संकटों में वृद्धि होना
18) धार्मिक स्थल देखना (मंदिर) – शुभ कार्य में धन लगे
19) धार्मिक स्थल देखना (गुरुद्वारा) – ज्ञान की प्राप्ति होना
20) धार्मिक स्थल देखना (मस्जिद – समस्या का समाधान मिले
21) धार्मिक स्थल देखना (चर्च) – मानसिक शांति बढे
22) धर्म ग्रन्थ देखने का फल (रामायण) – संघर्ष के बाद सफलता मिले


सपनों का मतलब “न”


बाल देखना

23) नल खुला देखना – काम शीघ्र होगा
24) नल बंद देखना – काम कठिनाई से होगा
25) नरक देखना – कठिनाइयाँ बढे
26) नगीना देखना – सरकार से लाभ होना, शुभ समाचार मिले
27) नगाड़ा देखना – धन लाभ, प्रसिद्धि मिले
28) नमाज़ पढ़ते देखना – कष्ट दूर होना, शान्ति मिलेगी
29) नमक खाना – झगडे में फँसना
30) नमक देखना – बीमारी दूर होना, व्यापार में लाभ होना
31) नमकदानी देखना – गृहस्थी का सुख मिले
32) नशे में स्वयं को देखना – धन वृद्धि होना परन्तु परेशानियां बढे
33) नरगिस का फूल देखना – पारिवारिक सुख मिले
34) नदी नाले में गिरते देखना – अनेक संकट आने का संकेत
35) नकटा मनुष्य देखना – धन तथा मान सम्मान बढे
36) नक़ल करना – काम में असफलता मिले
37) नक़ल करते देखना – यात्रा में रुकावट, काम बिगड़े
38) नक्शा बनाना – नई योजनाएं शुरू होना
39) नकसीर बहना – दिमागी परेशानियां आये
40) नकाब लगाना – गंभीर बीमारी आये
41) नट देखना – पारिवारिक सुख-शांति मिले
42) नसवार सूंघना – मानसिक परेशानियां बढे
43) नदी देखना – भविष्य सुखद होना
44) नदी में स्नान करना – काम में सफलता मिले
45) नदी में गिरना – संकट के बाद सुख मिले
46) नहर खोदना – कार्य सम्बन्धी योजनाये मिले
47) नंगा होना – विलासिता बढे
48) नदी, वृक्ष, या पर्वत देखना – दुःख दूर होना, धन मिले
49) नाटक देखना – भविष्य अनिश्चित होना
50) नाखून टूटना – सफलता देरी से मिले
51) नाक बहुत बड़ी देखना – मान सम्मान बढे, प्रमोशन होना
52) नाखून देखना – काम में परेशानी होना
53) नाक से खून बहना – धन में वृद्धि होना
54) नाटक देखना – गृहस्थी का सुख मिले
55) नाटक में भाग लेना – धोखा मिले
56) नारियल देखना – धन लाभ होना, अच्छा भोजन मिले
57) नाक पर चोट लगना – मान सम्मान में हानि होना
58) नासूर देखना – बीमारी से छुटकारा मिले
59) नापतोल करना – व्यापार में हानि होना
60) नाग के बिल में जाते देखना – धन संग्रह होना
61) नाग के बिल से बाहर निकलते देखना – धन हानि होना
62) नाग का डसना – मान सम्मान बढे

63) नाग को घर में देखना – देखे गए स्थान की पवित्रता का संकेत
64) नाग उठाये देखना – संपत्ति प्राप्ति का संकेत
65) नाना-नानी को देखना – पारिवारिक सुख बढे
66) नाड़ा बांधना या टूटना – पारिवारिक कलेश बढे
67) नाला देखना – गहरा संकट आये
68) नाव देखना – गृहस्थी का सुख मिले
69) नाव में बैठना – अनेक संकट आये
70) नाई से हजामत बनवाना – धोखा मिले
71) नारियल देखना – शुभ संकेत, धार्मिक आयोजन होना
72) नाला देखना – कार्य में सफलता मिले
73) नारद मुनि को देखना – धन-लाभ परन्तु लड़ाई झगडा होना
74) नाभि देखना – प्रगति तथा धन-लाभ होना
75) निरादर देखना – मान सम्मान बढे
76) निशाना लगाना – पुरानी इच्छा पूर्ण हो
77) नितम्ब देखना – गृहस्थी का सुख मिले
78) नीम का वृक्ष देखना – बीमारी दूर होना
79) नीलम देखना – शुभ समाचार मिले, दुश्मन परास्त होना
80) नींद में सोना या नींद से उठाना – धन लाभ होना
81) नीलकंठ देखना – मान सम्मान बढे, विवाह होना
82) नींबू काटना या निचोड़ना – धार्मिक कार्य होना
83) नुकीली चीज़ से चोट लगना – वाद-विवाद में फंसना
84) नुकीला जूता देखना – मान सम्मान बढे
85) नेवला देखना – संकट समाप्त होना, स्वर्णाभूषण मिले


इसे भी देखें: जानिए अपने सपनों का मतलब और उनका फल


सपनों का मतलब “प”


बाल देखना
Source

86) परी देखना – सफलता मिले, स्वस्थ्य लाभ होना, मान-सम्मान में वृद्धि होना, धन बढे
87) पहाड़ देखना – शत्रु पर विजय होना
88) पम्प से पानी निकालना – व्यवसाय में रुकावट आये
89) प्रसाद बाँटना – रोग कम होना, समृद्धि बढे
90) पहाड़ पर चढ़ना – मान-सम्मान तथा धन बढे
91) पहाड़ से उतरना – व्यापार में मंदा होना
92) परदेशी देखना – मनोकामना पूर्ण होना
93) पटका बांधना – मान-सम्मान तथा धन बढे
94) पटाखा देखना – ख़ुशी मिले
95) पलंग देखना – अपमानित होना पड़े
96) पनघट सूना देखना – कही से निमंत्रण आये
97) पनघट पर भीड़ देखना – परिवार में उत्सव होना
98) परिवार देखना – शुभ फल मिले
99) पनीर खाना – धन वृद्धि होना
100) पपीता खाना – पेट खराब होना
101) पहरेदार देखना – चोरी की सम्भावना
102) पंजीरी खाना – बीमारी आने की सूचना
103) परछाई देखना – अशुभ समाचार
104) पगड़ी देखना – धन-हानि होना
105) पर्दा सफेद देखना – मान-सम्मान में हानि
106) पर्दा काला देखना – धन वृद्धि होना
107) पर्स देखना – गुप्त कार्य पूरा होना
108) पहिया देखना – प्रगति तेज होना
109) पंडाल देखना – किसी बड़े उत्सव में शामिल होना
110) पत्तल देखना या उसमें खाना – शुभ लक्षण
111) पत्थर देखना या मारना – सरकार से लाभ होना
112) पत्र लिखना – परेशानी होना
113) प्याज खाना या खिलाना – दुर्भाग्यपूर्ण घटना घटे
114) प्रशंसा सुनना – अशुभ संकेत
115) प्रसाद बाँटना – शुभ फल मिले
116) प्याऊ बनवाना – धन वृद्धि होना
117) परीक्षा में बैठना – कार्य में असफलता
118) पतंग उड़ाना – लम्बी यात्रा होना
119) पढ़ना या पढ़ाना – काम में सफलता
120) पकवान खाना या बनाना – दु:खों में वृद्धि होना
121) पहिया देखना – यात्रा सफल होना
122) पानी देखना – सुख-समृद्धि बढे
123) पानी पीते देखना – धन वृद्धि होना
124) पॉलिश करना – नौकरी में तरक्की होना
125) पान का वृक्ष देखना – संतान की समृद्धि होना
126) पागल देखना – शुभ कार्य में वृद्धि होना
127) पानदान देखना – मित्रता में वृद्धि होना
128) पाउडर लगाना – मान सम्मान बढे
129) पार्वती माता देखना – सुख-समृद्धि बढे
130) पायल बजते देखना – स्त्री से वियोग होना
131) पारितोषिक मिलना – अपमानित होना
132) पालकी पर बैठना – स्वस्थ्य खराब होना
133) पालना देखना – पारिवारिक सुख मिले
134) पालना झुलाना – संतान के लिए कष्ट बढे
135) पार्सल लेना – अचानक लाभ मिले




136) पाताल देखना – मान-सम्मान बढे, प्रशंसा मिले
137) पाद मारना या अनुभव करना – व्यापार में लाभ होना, व्यवसायिक यात्रा
138) पार करना (तैरकर) – मान-सम्मान बढे
139) पिटारा देखना – धन लाभ होना
140) पिंजरा देखना – स्वास्थ्य खराब होना
141) पिंजरा खाली देखना – धन वृद्धि होना
142) पिंजरे में पक्षी देखना – गृह कलेश होना
143) पीपल देखना – शुभ सन्देश मिले
144) पीला रंग देखना – स्वास्थ्य खराब होना
145) पीठ देखना – मित्र से लाभ होना
146) पीतल के बर्तन देखना – धन लाभ होना, व्यापार बढे
147) पीली सरसों देखना – सब प्रकार से शुभ होना
148) पुस्तकालय देखना – समृद्धि बढे
149) पुस्तक खोना – मानहानि होना
150) पुस्तक मिलना – मान सम्मान में वृद्धि होना
151) पुजारी बनना – जीवन में उन्नति होना
152) पुड़िया बाँधना – शारीरिक कष्ट बढे
153) पुरस्कार मिलना – हानि होना
154) पुल पार करना – धन लाभ होना
155) पुल टूटते देखना – संकट से छुटकारा होना
156) पूजा पाठ करना – सुख-शान्ति तथा समृद्धि की सूचना
157) पूर्वज देखना – शुभ स्वप्न, समृद्धि बढे
158) पूजा या प्रार्थना करना – मानसिक शान्ति मिले
159) प्रेम प्रस्ताव रखना – विवाह में विलम्ब होना
160) पेड़-पौधे देखना – कार्य में लाभ होना
161) पेटी खोलना – चोरी की संभावना
162) पेशाब करना – संकट दूर होना, धन प्राप्ति होना
163) पेड़ा खाना – मुंह में रोग होना
164) पैर कटे देखना – शत्रु पर विजय होना
165) पैर खुजलाना – यात्रा शीघ्र होना
166) पैबंद लगाना – कष्ट के पूर्व सूचना
167) पैसा मिलना – मुफ्त का धन मिले
168) पेन-पेंसिल देखना – परीक्षा में उत्तीर्ण होना
169) पोछा लगाना – स्थान परिवर्तन होना
170) पोशाक पहनना – बीमारी आने का संकेत


सपनों का मतलब “फ”


171) फलाहार करना – सुख समृद्धि बढे
172) फटे कपड़े देखना – धनहानि होना, चिंताए बढे
173) फ़कीर देखना – काम में सफलता मिले
174) फ़रिश्ता देखना – मनोकामना पूर्ण होना
175) फंदा लगाना या देखना – मुसीबतों से छुटकारा मिले
176) फफोला टूटना – मुसीबतें समाप्त होना
177) फव्वारा देखना – सभी मुसीबतें दूर होना, प्रसन्नता बढे
178) फाखता देखना – पत्नी की ओर से कष्ट मिले, मानसिक ग्लानी होना
179) फाटक देखना – मुकदमा समाप्त होना
180) फाटक पार करना – सफलता मिले
181) फिटकरी देखना – धन लाभ होना




182) फांसी लगाना – जीवन में दिशा परिवर्तन होना
183) फिरोजा रत्न देखना – शत्रुओं पर विजय होना
184) फूलवारी देखना – मनपसंद विवाह होना, ख़ुशी मिले
185) फुल्का खाते देखना – आर्थिक समृद्धि होना, परन्तु शोक समाचार मिले
186) फुलझडी छूटते देखना – विवाह में सम्मिलित होना
187) फुहार पड़ते देखना – धन संमृद्धि बढे
188) फूलदान देखना – मान-सम्मान बढे
189) फूटी आँख देखना – शारीरिक व आर्थिक कष्ट बढे
190) फूंक मारना – सामाजिक कार्यो में मान-सम्मान बढे
191) फूल खिलते देखना – प्रसन्नता बढे, संतान होना
192) फूल जलते देखना – प्रिय व्यक्ति की मृत्यु देखना


इसे भी देखें:  जानिए सपने में खुद को झाड़ू लगाते देखने का क्या मतलब होता है?


सपनों का मतलब “ब”


बाल देखना

193) बतख पानी में देखना – शुभ समाचार मिले
194) बतख ज़मीन पर देखना – धन हानि होना
195) बन्दर देखना – धन वृद्धि होना, अच्छा भोजन मिले
196) बटन लगाना – संकट आने की सूचना
197) बटन देखना – धन बढे
198) बरसात देखना (शहर पर) – खुशहाली बढे
199) बरसात देखना (अपने घर पर) – संकट आये
200) बरसात में छतरी लगाकर चलना – संकट दूर होना
201) बकरी चुराना या खोना – लडाई होना
202) बर्फ खाना – चिंताए दूर होना
203) बर्फ गिरते देखना – आर्थिक समृद्धि होना
204) बनिए को दरवाज़े पर देखना – क़र्ज़ बढे
205) बटुआ देखना – धन लाभ होना, रोग दूर होना
206) बनियान पहनना – धन बढे, सुख शान्ति मिले
207) बगुला देखना – सफ़ेद देखने पर लाभ, काला देखने पर हानि होना
208) बधाई का सन्देश मिलना – दुखद सूचना मिले
209) बछिया देखना – शुभ समाचार मिले
210) बाल गिरते देखना – आर्थिक कष्ट बढे
211) बाजू काटना – अपमानित होना
212) बाजू पर चोट लगना – माता-पिता के लिए अनिष्टकारक

213) बाजू कटी देखना – शत्रु पर विजय मिले
214) बांस देखना – लगातार उन्नति होना
215) बाज़ देखना – दुर्घटना में फँसना
216) बाज़ द्वारा झपट्टा मारना – पहाड़ से गिरने के लक्षण
217) बारात में जाना – अशुभ समाचार मिले
218) बाघ देखना – शत्रु पर विजय होना
219) बारहसिंघा देखना – दूर स्थान की यात्रा होना
220) बाढ़ देखना – संकटों से छुटकारा होना
221) बाढ़ में घिरना – वातावरण सुखद होना
222) बाढ़ में फंसे आदमियों को बचाना – गृह-कलेश बढ़ना
223) बाढ़ के पानी में तैरना –व्यापार में सफलता मिले
224) बाढ़ में लोगों को डूबते देखना – लम्बी यात्रा होना
225) बादल बरसते देखना – पारिवारिक सुख शान्ति या समृद्धि
226) बादल से बिजली गिरते देखना – अशुभ समाचार मिले
227) बादल को छूना – धन वृद्धि होना
228) बाज़ार में स्वयं घूमना – अच्छे समाचार मिले
229) बाज़ार देखना – धन हानि होना, व्यापार में घाटा होना
230) बाजीगरी देखना – षडयंत्र में फंसना
231) बादाम खाना – स्वास्थ्य खराब होना, अस्पताल में भर्ती होना पढ़े
232) बादाम देखना – धन वृद्धि होना
233) बादशाह देखना – धन वृद्धि होना, मान-सम्मान बढे
234) बाल कटे देखना (सर के) – क़र्ज़ से छुटकारा मिले
235) बाल काले देखना (अपने सर के) – अधिक धन मिले
236) बाल सफ़ेद देखना (अपने) – समाज में उच्च स्थान मिले
237) बाल कटे देखना – गृह-कलेश बढे
238) बाल देखना (हथेली या तलुओं में) – क़र्ज़ में फंसना
239) बाल देखना (बगल के या नाभि के नीचे के) – अपमानित होना
240) बातें बहुत करना – काम में वृद्धि होना, मान सम्मान बढे
241) बालू देखना – धन लाभ होना
242) बालू छानते देखना – आर्थिक परेशानी बढे
243) बिच्छू, सांप या भयानक जीव देखना – धन मिले
244) बौना देखना – शुभ समय नज़दीक है
245) बाइबल – ज्ञान में वृद्धि होना






सपनों का मतलब “भ”


246) भण्डार देखना – काफी धन लाभ होना
247) भट्ठा देखना – भूमि तथा भवन में वृद्धि होना
248) भभूत लगाना – शीघ्र विवाह होना तथा गृहस्थी का सुख मिले
249) भाई देखना – भाई की आयु वृद्धि होना तथा रोग दूर होना
250) भाभी देखना – स्वयं को कष्ट मिले, भतीजा जन्मे
251) भागते देखना – कष्ट मिटे, अच्छा समय आने वाला है
252) भांग का नशा करना – अपमानित होना
253) भांड देखना – लडाई-झगड़ा अथवा वाद-विवाद में फँसना
254) भाला लेकर चलना – शत्रु पर विजय होना
255) भाला मारना – अपमानित होना
256) भाले के खेल का प्रदर्शन करना – संकट या दुर्घटना आये
257) भीड़ की छटा देखना – काफी लाभ मिले
258) भीड़ का काटना – दुःख आये
259) भिन्डी देखना – सुखों में वृद्धि होना, आलस्य बढे
260) भिखारी देखना – कार्य के अच्छे परिणाम मिले
261) भींगते देखना – सुख-समृद्धि में वृद्धि होना
262) भीख मांगना या देना – पारिवारिक सुख– संपत्ति तथा समृद्धि बढे
263) भीड़ देखना या उसमे चलना – कार्य अधूरा होना

264) भीड़ को उग्र रूप में देखना – कार्य में सफलता मिले
265) भूचाल देखना – तबाही आये, जनता पर संकट पड़े
266) भूसा देखना – पशुओं से लाभ मिले
267) भूमिगत (स्वयं को) देखना – भयंकर बीमारी आये या विपत्ति बढे
268) भेडिया देखना – विश्वासघात होना, खतरे की सूचना
269) भेड़ अकेली देखना – अशुभ होना
270) भेड़ो को समूह में देखना – लाभ होना
271) भैंसा देखना – संघर्ष करने से सफलता मिलेगी
272) भैस देखना – अच्छा भोजन मिले


आपको ये जानकारी कैसी लगी? इस बारे में कमेंट कर के जरूर बताइएगा। ऐसे हीं बेहतरीन पोस्ट पढने के लिए हमारे न्यूजलेटर को सब्सक्राइब करना न भूलें। लाइक करें हमारे Facebook Page को और इससे संबंधित विडियो देखने के लिए सब्सक्राइब करें हमारे YouTube Channel को।

इसे भी पढ़ें:

loading…


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *