जानिए उत्तर प्रदेश के बारे में कुछ मजेदार फैक्ट्स

Photo of author

उत्तर प्रदेश जनसंख्या के हिसाब से भारत का सबसे बड़ा राज्य है। इसकी स्थापना 1 अप्रैल 1937 में हुई थी। हालांकि उस वक्त इसका नाम उत्तर प्रदेश न होकर यूनाइटेड प्रॉविंस था। संविधान लागू होने के बाद सन 1950 में इसका नाम बदल कर उत्तर प्रदेश रखा गया। इसके अलावा यूपी भारत का एकमात्र ऐसा राज्य है जिसने देश को सर्वाधिक 9 प्रधानमंत्री दिए हैं। आज हम इस पोस्ट में उत्तर प्रदेश से संबंधित ऐसे ही कुछ मजेदार फैक्ट्स के बारे में जानेंगे।


उत्तर प्रदेश भारत का सबसे अनोखा राज्य


उत्तर प्रदेश
Source

1) प्राचीन समय से ही उत्तर प्रदेश राज्य हर काम में आगे रहा है। बात करें धर्म की तो उत्तर प्रदेश का अयोध्या भगवान श्रीराम और मथुरा श्रीकृष्ण की जन्मभूमि रही है वहीं कुशीनगर में भगवान बुद्ध को महानिर्वाण की प्राप्ति हुई थी। गौतम बुद्ध ने अपना पहला उपदेश वाराणसी के निकट सारनाथ में ही दिया था।

2) प्राचीन काल में उत्तर प्रदेश कितना विशाल राज्य हुआ करता था इसका अंदाजा आप इसी से लगा सकते हैं कि जब भारत में 16 महाजनपद हुआ करते थे तब उनमे से 7 महाजनपद केवल उत्तर प्रदेश में ही थे।

3) इस राज्य की आबादी 20 करोड़ से भी अधिक है। इतनी आबादी तो पूरे ऑस्ट्रेलिया महाद्वीप में भी नहीं है।

4) कहा जाता है कि दिल्ली में सरकार बनाने का रास्ता उत्तर प्रदेश से होकर ही जाता है और ये सच भी है। इसका कारण यह है कि उत्तर प्रदेश में सर्वाधिक 80 लोकसभा सीटें है और जो भी पार्टी यूपी में ज्यादा सीटें जीतती है वो सरकार बनाने के करीब पहुँच जाती है। इसके अलावा यहाँ 31 राज्यसभा सीटें भी है।

5) उत्तर प्रदेश का सोनभद्र जिला देश का एकमात्र ऐसा जिला है जो अकेले ही अपनी सीमाओं (Border) से चार राज्यों मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ, बिहार और झारखंड को छूता है।

6) उत्तर प्रदेश का राजकीय पक्षी सारस है जबकि राजकीय पशु बारहसिंगा, राजकीय फूल पलास, राजकीय पेड़ अशोक तथा राष्‍ट्रीय चिन्‍ह मछली एवं तीर कमान है।

7) इस राज्य की 80% से भी अधिक जनसँख्या ग्रामीण इलाकों में रहती है और लगभग 66% जनसँख्या का मुख्य व्यवसाय कृषि है।

8) उत्तर प्रदेश की सीमाऐं सर्वाधिक 9 राज्यों (उत्‍तराखंड, हिमाचल प्रदेश, हरियाणा, दिल्‍ली, राजस्‍थान, मध्‍यप्रदेश, बिहार, छत्‍तीसगढ और झारखंड) की सीमाओं को छुती है।

इसे भी पढें: बिहार के बारे में ये बातें नहीं जानते होंगे आप

9) यूपी को हिंदी भाषा का केंद्र भी कहा जाता है। यहाँ के कई सारे प्रसिद्ध लेखकों ने, हिंदी साहित्य के विकास में अपना योगदान दिया है। कबीर दास, तुलसी दास, सूर दास, विष्णु शर्मा, प्रेमचंद, जयशंकर प्रसाद, महादेवी वर्मा, और हरिवंश राय बच्चन जैसे लेखक इसी राज्य ने दिए हैं।

10) भारत के आजादी की लड़ाई की शुरूआत उत्तर प्रदेश के मेरठ से ही हुई थी जब मंगल पांडे और उनके साथियों द्वारा शुरू किया गया विद्रोह धीरे-धीरे पूरे भारत में फैल गया था।

11) उत्तर प्रदेश के सारनाथ में सम्राट अशोक ने सिंह स्तम्भ बनवाए थे जिसे अशोक स्तम्भ भी कहा जाता है। आजादी के बाद भारत सरकार ने अपने राजकीय चिन्ह के तौर पर अशोक स्तम्भ को स्वीकार किया था।

उत्तर प्रदेश
Source

12) इस राज्य ने देश को कई महान हस्तियां दी है जिनमे पंडित जवाहर लाल नेहरू, लाल बहादूर शास्त्री, मदनमोहन मालवीय, चन्द्रशेखर आजाद, मेजर ध्यानचंद, मुंशी प्रेमचंद, अमिताभ बच्चन, अटल बिहारी वाजपेयी इत्यादि शामिल हैं।

13) यहाँ गन्ने की फसल प्रमुख तौर पर उपजाई जाती है। भारत के पूरे गन्ने के फसल में से, आधे से ज़्यादा गन्ना, उत्तर प्रदेश में ही होता है।

14) यूपी में हर साल इतने गन्ने होते हैं कि अगर उन सभी को एक जगह इकट्ठा करके एक के ऊपर एक रखें तो धरती से चाँद तक और चाँद से धरती तक करीब 700 बार रास्ता बनाया जा सकता है।

इसे भी पढें: कुवैत के बारे में कुछ मजेदार रोचक तथ्य

15) यूपी के वाराणसी शहर की बनारसी साड़ी, पूरे विश्व में प्रसिद्ध है, और हर साल लाखों-करोड़ों साड़ियां पूरे विश्व में सप्लाई की जाती है।

16) यूपी का कन्‍नौज जिला खुशबूदार इत्र के लिए जाना जाता है। यहाँ इत्र भारी मात्रा में बनाया जाता है। इस शहर की हवा में इत्र की खुशबु फैली होती है जिसे आसानी से महसूस किया जा सकता है। यहां के खेतों में फसल से ज्‍यादा फूलों जैसे – गुलाब, गेंदा और मेंहदी की पैदावार होती है।

17) 2019 में प्रयागराज में हुए अर्धकुंभ में लगभग 12 करोड़ लोगों ने स्नान किया था। यह विश्व का सबसे बड़ा आयोजन था जिसमे इतनी ज्यादा संख्या में लोगों ने पार्टीसिपेट किया था।

18) यूपी के बरसाना की लट्ठमार होली पूरे विश्व में फेमस है। इस अनूठी होली को देखने के लिए देश-विदेश से लोग आते हैं।

19) उत्तर प्रदेश का फ़िरोज़ाबाद काँच की चीज़ों के लिए मशहूर है। यहाँ की काँच से बनी चूड़ियों की पूरे देश भर में काफी मांग है।

20) उत्तर प्रदेश में देखने के लिए बहुत सारे ऐतिहासिक स्थल और स्मारक हैं। दोस्तों उत्तर प्रदेश के टूरिज्म विभाग के अनुसार, पूरे उत्तर प्रदेश में कुल 1040 स्मारक और दर्शनीय स्थल है। अगर आप रोज एक स्मारक या दर्शनीय स्थल को देखने जाते हैं तो पूरे 1040 टूरिज्म प्लेस को देखने में आपको 2 साल 10 महीने लग जाएंगे।


आपको यह जानकारी कैसी लगी कमेंट कर के जरूर बताइएगा। ऐसी हीं खबर पढते रहने के लिए हमारे न्यूजलेटर को सब्सक्राइब जरूर करें और लगातार अपडेट पाने के लिए हमारे यूट्यूब चैनल और फेसबुक पेज को लाइक जरूर करें।



इसे भी पढें:

Leave a Reply

%d bloggers like this: