सावधान, Corona Virus से ज्यादा घातक है उससे संबंधित ये अफवाहें

देश भर में कोरोना वायरस को लेकर अफवाहों का बाजार गर्म है। जितने मुंह उतनी बातें कही जा रही हैं। सबके अपने तर्क हैं। यह कीजिए, तो वायरस नहीं फैलेगा। यह खाएंगे-पीएंगे तो आप बचे रहेंगे। ऐसे में लोग कन्फ्यूज हैं कि क्या सही है और क्या गलत। लोगों में उभरी ऐसी ही कुछ गलतफहमियों को दूर करने की कोशिश की है अमेरिका की ‘यूनिवर्सिटी ऑफ मैरिलैंड’ के चीफ ऑफ इंफेक्शियस डिजीज, फहीम यूनुस ने अपने ट्विटर हैंडल @FaheemYounus ने। आइए जानते हैं उनके द्वारा बताई गई कुछ जरूरी बातों के बारे में।


कोरोना वायरस – अफवाह और सच्चाई (Corona Virus: Myth & Truth)


कोरोना वायरस
Source

1) अफवाह – गर्मियों के महीनों में कोरोना वायरस चला जाएगा।

सच्चाई – गलत। पहले आईं महामारियों में भी ऐसा नहीं था। वह मौसमी पैटर्न के हिसाब से आगे नहीं बढ़ी थीं। साथ ही, जब हमारे यहां गर्मियां शुरू होती हैं, तब दक्षिणी गोलार्ध में सर्दियां होती हैं और इस वायरस का प्रभाव वैश्विक है। ऐसे में ये कहना कि गर्मियों में कोरोना खत्म हो जाएगा, अफवाह के सिवा कुछ नहीं है।


2) अफवाह – गर्मियों में मच्छरों के काटने से कोरोना वायरस और तेजी से फैलेगा।

सच्चाई – गलत। इस वायरस का इंफेक्शन श्वसन नली से आनेवालीं बूंदों से फैलता है, ना कि खून से। मच्छरों की वजह से इसका दायरा नहीं बढ़ता। जो व्यक्ति कोरोना से इन्फेक्टेड होगा उसके मुँह से निकली लार की बूंदें अगर इंसानी शरीर के संपर्क में आती है तभी ये वायरस तेजी से फैलेगा।

इसे भी पढें: भूलकर भी दोबारा गर्म न करें इन खाने की चीजों को, हो सकता है सेहत को बड़ा नुकसान


3) अफवाह – अगर आप बिना परेशानी के अपनी सांस 10 सेकंड तक रोक सकते हैं, तो आपको कोरोना नहीं होगा।

सच्चाई – गलत। कोरोना वायरस से पीड़ित कई युवा मरीज अपनी सांस 10 सेकंड से ज्यादा समय तक रोक कर रख सकते हैं। जबकि कई बुजुर्ग जो इस वायरस से पीड़ित नहीं हैं, वह अपनी सांस नहीं रोक सकते। दूसरी बात ये वायरस हवा से नहीं बल्कि इंफेक्टेड व्यक्ति के सलाइवा से फैलता है।


4) अफवाह – कोरोना की टेस्टिंग के लिए हमें ब्लड डोनेट करना चाहिए। ब्लड बैंक यह टेस्ट करेगा।

सच्चाई – कोई भी ब्लड बैंक कोरोना की जांच नहीं कर रहा। ऐसे में आपकी यह कोशिश फेल हो जाएगी। ब्लड डोनेशन एक अच्छा काम है और इसके प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए सही रास्ते की तलाश करनी चाहिए। इसके अलावा अगर आपको कोरोना जैसे लक्षण दिखते हैं तो भूल कर भी रक्तदान न करें अन्यथा आपका इंफेक्टेड ब्लड किसी और को चढाने से उसे भी इस संक्रमण से ग्रसित होने का खतरा रहेगा।

इसे भी पढें: गाय का घी खाने के बेहतरीन फायदे के बारे में जानकर आप चौंक जाएंगे


5) अफवाह – कोरोना वायरस हमारे गले में जिंदा रहता है। ऐसे में खूब सारा पानी पीयें। इससे वायरस हमारे पेट में आमाशय में चला जाएगा और वहां मौजूद एसिड उसे खत्म कर देगा।

सच्चाई – वायरस हमारे गले के रास्ते शरीर में दाखिल हो सकता है, लेकिन यह होस्ट सेल्स में प्रवेश करता है। आप इसे पानी पीकर दूर नहीं कर सकते। हां! ज्यादा पानी पीने से टॉइलट के लिए भागना पड़ेगा।


6) अफवाह – कार एक्सिडेंट में हर साल हजारों लोग जान गंवाते हैं। कोरोना वायरस क्या बड़ी बात है?

सच्चाई – कार एक्सिडेंट संक्रामक नहीं है। इससे होने वाली मौतें हर तीसरे दिन में दोगुनी नहीं हो सकतीं। कार एक्सिडेंट से लोगों में पैनिक और शेयर मार्केट में मंदी नहीं आती।


7) अफवाह – साबुन और पानी के मुकाबले हैंड सेनेटाइजर बेहतर हैं।

सच्चाई – गलत। साबुन और पानी भी हमारी त्वचा से वायरस को खत्म करते हैं। इससे हाथों में नजर आनेवाली गंदगी भी साफ हो जाती है। अगर आपको अपने आसपास की मार्केट में हैंड सेनेटाइजर ना मिलें तो आपको परेशान होने की जरूरत नहीं है। कोई भी एंटी-बैक्टीरियल साबुन जैसे डेटॉल, सेवलॉन इत्यादि से आप हाथ धो सकते हैं।


8) अफवाह – कोरोना वायरस के बचने का सबसे सही तरीका है कि आप अपने घर के हर दरवाजे की कुंडी को साफ कर उसे कीटाणु मुक्त कर दें।

सच्चाई – अगर आप अपने घर में कोरोना मरीज की देखभाल नहीं कर रहे, तो आपके घर में इंफेक्शन का खतरा नहीं है। जहां तक बेस्ट तरीके की बात है तो, हाथ धोना और एक-दूसरे से 6 फीट की दूरी बनाकर रखना ही बचाव का बेस्ट तरीका है।

इसे भी पढें: ये है पेट में गैस बनने की असली वजहें, इन उपायों को अपना कर पाएं छुटकारा


9) अफवाह – मास्क पहनने से नहीं होगा कोरोना

सच्चाई – अगर आप स्वस्थ हैं और आपके अंदर कोरोना वायरस के लक्षण नहीं है तो आपको मास्क पहनने की जरूरत नहीं है। कोरोना से संक्रमित व्यक्ति को ही मास्क पहनना चाहिए जिससे छींकते या खांसते समय उसके मुँह से निकले सलाइवा दूसरों के ऊपर न गिरे।


10) अफवाह – चिकन या अंडा खाने से फैलता है कोरोना वायरस

सच्चाई – कोरोना वायरस चिकन या अंडे खाने से बिलकुल भी नहीं फैलता, न ही कोरोना का मुर्गियों से कोई संबंध है। बल्कि अगर आप चिकन या अंडा खाते हैं तो उसमे मौजूद प्रोटीन से आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता और भी ज्यादा बढेगी जिससे कोरोना या दूसरी बीमारियों से बचाव में आपका शरीर बेहतर रेस्पॉन्स देगा। 


इस जानकारी को ज्यादा से ज्यादा लोगों तक शेयर करें जिससे कोरोना वायरस के बारे में लोगों में भ्रम न फैले और उन्हे पता चल सके कि क्या करना है और क्या नहीं करना है।


आपको यह जानकारी कैसी लगी कमेंट कर के जरूर बताइएगा। ऐसी हीं खबर पढते रहने के लिए हमारे न्यूजलेटर को सब्सक्राइब जरूर करें और लगातार अपडेट पाने के लिए हमारे यूट्यूब चैनल और फेसबुक पेज को लाइक जरूर करें।



इसे भी पढें:

Source : NBT

Leave a Reply

India vs Pakistan Live Match Free mein Kaise dekhen | T20 World Cup Live Streaming App धनतेरस पर करें ये 1 उपाए, होने लगेगी धन की बारिश धनतेरस पर भूलकर भी नहीं खरीदनी चाह‍िए ये वस्‍तुएं, होता है अशुभ किडनी खराब होने के लक्षण और उपाय | Kidney Damage Symptoms in Hindi
%d bloggers like this: