बिहार के बारे में ये बातें नहीं जानते होंगे आप

Photo of author

बिहार का नाम सुनते ही अक्सर लोगों के दिलों-दिमाग में एक गरीब और पिछड़े हुए राज्य की तस्वीर उभर आती है। कुछ लोग तो बिहार और बिहारियों के नाम से ही नाक-भौंह सिकोड़ने लगते हैं। आज भारत के दूसरे राज्यों में ऐसे हालात बना दिए गए हैं कि अगर आपने किसी से कह दिया की आप बिहार से हैं तो वो आपको ऐसी नजरों से देखेगा जैसे आप कितने बड़े गुनहगार हैं।

एक कहावत है एक सड़ी मछली पूरे तालाब को गंदा कर देती है। उसी तरह कुछ बिहारियों के गलत काम के कारण पूरे बिहार को बदनाम कर दिया गया है। लेकिन बहुत कम लोगों को ही पता है कि बिहार ने देश और पूरी दुनिया को ऐसे कई नायाब तोहफे दिए हैं जिनके बिना आज की हमारी आधुनिक लाइफस्टाइल संभव नहीं थी।

आज हम आपको बिहार के बारे में विस्तार से बताएंगे जिसे जानकर आप हैरान रह जाएंगे और एक बार आप बिहार की सच्चाई और इतिहास को जान गए तो फिर कभी बिहार की धरती और बिहार के लोगों का मजाक उड़ाना भूल जाएंगे।


बिहार के बारे में रोचक तथ्य


बिहार के
Source

1) बिहार का इतिहास उतना ही पुराना है जितना भारत का। माता सीता का जन्म बिहार के सीतामढी में ही हुआ था और रामायण लिखने वाले महर्षि वाल्मीकि भी बिहार के ही थे।

2) बिहार का पुराना नाम मगध था। इसकी राजधानी पाटलिपुत्र हुआ करती थी जिसे आज पटना कहा जाता है। इसी मगध का राजा जरासंध था जिसका वर्णन महाभारत में भी किया गया है।

3) मगध पर नन्द वंश, मौर्य वंश, गुप्त वंश के राजाओं ने शासन किया था। नन्द वंश के शासन काल में हीं तथाकथित विश्वविजेता सिकंदर ने भारत पर हमला किया था लेकिन मगध की विशाल सेना देख कर उसके सैनिकों के हौसले पस्त हो गए और वो पंजाब से ही वापस लौट गया। अगर सिकंदर ने मगध पर हमला करने की कोशिश की होती तो शायद वो भारत से जिन्दा वापस नहीं गया होता और आज दुनिया उसे विश्व विजेता के तौर पर नहीं जानती।

इसे भी पढें: 2019 में सबसे ज्यादा कमाने वाले Top 10 फेमस सेलिब्रिटी

4) भारत के महान सम्राट चन्द्रगुप्त मौर्य इसी मगध की धरती पर पैदा हुए थे। उनके शासन काल में मगध यानि बिहार का साम्राज्य पूरब में आज के बांग्लादेश से पश्चिम में अफगानिस्तान तक फैला हुआ था।

5) चन्द्रगुप्त मौर्य के पोते और भारत के सबसे महान शासक सम्राट अशोक की महानता के किस्से आप सभी ने बचपन में स्कूल किताबों में पढें ही होंगे। सम्राट अशोक द्वारा स्थापित अशोक स्तंभ को भारत सरकार ने आजादी के बाद भारत के राजकीय चिन्ह का दर्जा दिया।

6) आज पूरा भारत जिस चाणक्य नीति की बात करता है उस चाणक्य नीति के रचयिता चाणक्य इसी बिहार की धरती पर जन्मे थे।

7) दुनिया को जीरो देने वाले आर्यभट्ट इसी मगध के पाटलिपुत्र में पैदा हुए थे। आज इंसान चाँद पर कदम रख चुका है और मंगल पर उतरने की तैयारी कर रहा है। ये सब संभव नहीं होता अगर जीरो की खोज नहीं हुई होती।

8) अपने जीवनकाल में कभी भी हार का मुँह नहीं देखने वाले गुप्त वंश के चौथे सम्राट समुद्रगुप्त ने भी इसी मगध के जरिए पूरे भारतवर्ष पर शासन किया था। उनके शासन काल को भारत को स्वर्ण युग कहा जाता है और भारत को सोने की चिड़िया जैसी उपाधि भी उन्ही के शासनकाल में मिली थी।

इसे भी पढें: भारत के 5 सबसे भरोसेमंद मित्र देश जो भारत के लिए कुछ भी करने को तैयार हैं

9) आज हम हर साल 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस मनाते हैं लेकिन शायद ही आपको पता होगा कि दुनिया में गणतंत्र की शुरुआत सर्वप्रथम बिहार के लिच्छवी गणराज्य से ही हुई थी।

10) जिस समय पूरी दुनिया में लोगों को शिक्षा का सही अर्थ तक नहीं मालूम था उस समय मगध यानि बिहार का नालन्दा विश्वविद्यालय शिक्षा, संस्कृति और शक्ति का केंद्र था। इस विश्वविद्यालय में पढने के लिए पूरी दुनिया से छात्र आते थे।

11) इसी नालंदा विश्वविद्यालय में उस वक्त की पूरी दुनिया की सबसे बड़ी लाइब्रेरी हुआ करती थी जिसे तुर्क आक्रमणकारी कुतुबुद्दीन ऐबक के सेनापति बख्तियार खिलजी की फौज ने 12वीं सदी में जला दिया था। ये लाइब्रेरी इतनी बड़ी थी कि इसे पूरी तरह जलने में 3 महीने लगे और इसमें रखी नौ लाख पांडुलिपि नष्ट हो गई।

12) मध्यकाल में बिहार, बंगाल का हिस्सा बन गया लेकिन 22 मार्च 1912 को बंगाल विभाजन के बाद बिहार को उसकी पहचान फिर से वापस मिल गई।

13) मौर्य काल से ही यहाँ बौद्ध धर्म के लोगों की आबादी बहुत ज्यादा थी और उनके रहने की जगह को विहार कहा जाता है। ऐसा माना जाता है कि इसी विहार से बिहार शब्द की उत्पति हुई है।

Bihar
Source

14) सन 2000 में झारखन्ड के अलग हो जाने के बाद बिहार का क्षेत्रफल 94,163 वर्ग किलोमीटर ही रह गया। इस राज्य में 38 जिले, 40 लोकसभा और 16 राज्यसभा सीटें हैं।

15) पिछले कुछ सालों में बिहार लगातार तरक्की कर रहा है। 2019 में आई रिपोर्ट के अनुसार, बिहार का जीडीपी ग्रोथ रेट 11.3 प्रतिशत था जो कर्नाटक, बंगाल और गुजरात विकसित राज्यों से भी ज्यादा था।

16) भारत के पहले राष्ट्रपति डॉ राजेन्द्र प्रसाद का जन्म बिहार के सिवान जिले में ही हुआ था। इतना ही नहीं महात्मा गाँधी ने भी अपनी आजादी की लड़ाई की शुरूआत बिहार के चम्पारण से की थी।

17) बिहार सिखों के दसवें गुरु, गुरु गोबिंद सिंह जी का जन्मस्थान है। सिखों का पवित्र स्थान हरमंदिर तख्त पटना में ही है।

18) जैन धर्म के 24वें तीर्थंकर भगवान महावीर का जन्म भी बिहार के वैशाली में ही हुआ था। उन्होने अपना पहला उपदेश भी बिहार के राजगीर में ही दिया था।

19) बौद्ध धर्म का प्रमुख तीर्थ स्थल बोधगया बिहार में ही है। इसी बोधगया में बोधिवृक्ष के नीचे भगवान बुद्ध को ज्ञान की प्राप्ति हुई थी।

बिहार के
Source

20) इसके अलावा बिहार कई महापुरूषों की जन्मस्थली भी रहा है। वीर कुँवर सिंह, अनुग्रह नारायण सिंह, रामधारी सिंह दिनकर, चन्द्रकांता जैसी कालजयी उपन्यास लिखने वाले देवकीनन्दन खत्री, इंदिरा गांधी की सत्ता को हिला देने वाले जय प्रकाश नारायण, उस्ताद बिस्मिल्ला खान, डॉ राजेन्द्र प्रसाद, रामनाथ गोयनका, इन्ही के नाम पर देश का सर्वश्रेष्ठ पत्रकारिता का पुरस्कार रामनाथ गोयनका जर्नलिज्‍म अवार्ड दिया जाता है।

21) आज देश में हर जगह सुलभ शौचालय मौजूद है लेकिन आपमे से बहुत कम लोगों को ही पता होगा कि सुलभ शौचालय जैसी क्रांतिकारी शुरूआत करने वाले डॉ बिन्देश्वरी पाठक भी बिहार के ही रहने वाले हैं।

22) हाल हीं में ॠतिक रोशन की एक मूवी आई थी सुपर 30, इस मूवी में ॠतिक ने पटना के आईआईटी टीचर आनंद कुमार का रोल प्ले किया है। आनंद कुमार एक ऐसे शिक्षक हैं जिनके कोचिंग सुपर 30 से हर साल सारे बच्चे आईआईटी एंट्रेंस क्रैक करते हैं। प्रतिष्ठित पत्रिका टाइम मैगजीन ने उनके कोचिंग संस्थान को दुनिया के सर्वश्रेष्ठ संस्थानों की सूची में भी शामिल किया है।

23) केरल, तमिलनाडु, आन्ध्र प्रदेश और गुजरात मिल कर एक साल में जितने आईएएस देते हैं उससे कहीं अधिक संख्या में आईएएस और आईपीएस अकेले बिहार देता है।

24) आज नेता चुनावों में फ्री वाई-फाई के वादे करते हैं लेकिन आपको जानकर हैरानी होगी कि विश्व का सबसे बड़ा फ्री वाई-फाई जोन बिहार के पटना में ही है जो करीब 20 किलोमीटर के एरिया को कवर करता है और इसकी शुरूआत 2014 में ही हो गई थी। मजे की बात यह है कि दूसरे नम्बर पर चीन है जहां फ्री वाई-फाई जोन सिर्फ 3.5 किलोमीटर का है।

25) बिहार का खास त्योहार छठ महापर्व पूरे भारत में अपनी एक अलग पहचान बना चुका है। यह पूरी दुनिया का एकमात्र ऐसा त्योहार है जिसमे डूबते सूर्य की भी पूजा की जाती है।

26) फादर ऑफ मॉरीशस के नाम से चर्चित मॉरीशस के पहले प्रधानमंत्री सर शिवसागर रामगुलाम के पिता भी बिहार से ही थे।

27) बिहार की मिथिला पेंटिंग देश ही नही, बल्कि पूरे विश्व मे विख्यात है।

28) बिहार के सोनपुर में लगने वाला पशुमेला प्राचीन काल से लगता आ रहा है। यह भारत ही नहीं बल्कि एशिया का भी सबसे बड़ा पशुमेला है।

29) बिहार टूरिज्म के मामले में भी किसी से पीछे नहीं है। यहाँ के दर्शनीय स्थलों में बोधगया का महाबोधि मंदिर, पटना का तख्त श्री हरिमंदिर साहिब, प्राचीन नालंदा विश्वविद्यालय के अवशेष, पावापुरी का जलमंदिर, सासाराम में शेरशाह सूरी का मकबरा, राजगीर का विश्व शान्ति स्तूप, भागलपुर में प्राचीन विक्रमशीला विश्वविद्यालय के अवशेष, सीतामढी का जानकी मंदिर इत्यादि हैं।

30) अगर आप बिहार में जाते हैं और वहाँ का फेमस खाना लिट्टी-चोखा नहीं खाया तो समझ लीजिए कि आपने कुछ नहीं खाया।

ये थी बिहार से सम्बन्धित कुछ जरूरी फैक्ट्स। अगर आप भी बिहार के बारे में कुछ बताना चाहते हैं तो कमेंट सेक्सन के जरिए जरूर बताएं।


आपको यह जानकारी कैसी लगी इस बारे में कमेंट करके जरूर बताएं। ऐसी हीं खबर पढते रहने के लिए हमारे न्यूजलेटर को सब्सक्राइब जरूर करें और लगातार अपडेट पाने के लिए हमारे यूट्यूब चैनल और फेसबुक पेज को लाइक जरूर करें।



इसे भी पढें:

Leave a Reply

%d bloggers like this: