जानिए क्यों मनाया जाता है भाई-दूज, कथा और पूजा विधि

भाई-दूज, भाई और बहन के बीच के प्यार का त्योहार है। यह त्योहार पूरे भारत में धूमधाम से मनाया जाता है। इस त्योहार का अपना महत्व है। इसको मनाए जाने का कारण भी है। यमुना जी और धर्मराज को समर्पित यह मंदिर मथुरा में यमुना जी के विश्राम घाट पर स्थित है। इस मंदिर को बहन-भाई के मंदिर के नाम से भी जाना जाता है। क्योंकि यमुना और यमराज भगवान सूर्य के पुत्री और पुत्र थे।

इस मंदिर में यमुना और धर्मराज जी की मूर्तियां एक साथ लगी हुई है। ऐसी पौराणिक मान्यता है की जो भी भाई, भैया दूज (भाई दूज ) के दिन यमुना में स्नान करके इस मंदिर में दर्शन करता उसे यमलोक जाने से मुक्ति मिल जाती है। इसकी पुराणो में एक कथा भी है जो की बहने भैया दूज (यम द्वितीया) के दिन सुनती है।

यम द्वितीया (भाई-दूज) की कहानी

सूर्य भगवान की स्त्री का नाम संज्ञा देवी था। इनकी दो संतानें, पुत्र यमराज तथा कन्या यमुना थी। संज्ञा देवी पति सूर्य की उद्दीप्त किरणों को न सह सकने के कारण उत्तरी ध्रुव प्रदेश में छाया बन कर रहने लगीं। उसी छाया से ताप्ती नदी तथा शनीचर का जन्म हुआ। इधर छाया का यम तथा यमुना से विमाता सा व्यवहार होने लगा। इससे खिन्न होकर यम ने अपनी एक नई नगरी यमपुरी बसाई, यमपुरी में पापियों को दण्ड देने का कार्य सम्पादित करते भाई को देखकर यमुनाजी गो लोक चली आईं जो कि कृष्णावतार के समय भी थी।

भाई-दूज

यमुना अपने भाई यमराज से बडा स्नेह करती थी। वह उनसे बराबर निवेदन करती कि वह उसके घर आकर भोजन करें। लेकिन यमराज अपने काम में व्यस्त रहने के कारण यमुना की बात को टाल जाते थे। बहुत समय व्यतीत हो जाने पर एक दिन सहसा यम को अपनी बहन की याद आई। उन्होंने दूतों को भेजकर यमुना की खोज करवाई, मगर वह मिल न सकीं।

फिर यमराज स्वयं ही गोलोक गए जहाँ विश्राम घाट पर यमुनाजी से भेंट हुई। भाई को देखते ही यमुनाजी ने हर्ष विभोर होकर उनका स्वागत सत्कार किया तथा उन्हें भोजन करवाया। इससे प्रसन्न हो यम ने वर माँगने को कहा। यमुना ने कहा – हे भइया मैं आपसे यह वरदान माँगना चाहती हूँ कि मेरे जल में स्नान करने वाले नर-नारी यमपुरी न जाएँ।

इसे भी पढें: छठ पूजा व्रत विधि और नियम हिन्दी में

प्रश्न बड़ा कठिन था, यम के ऐसा वर देने से यमपुरी का अस्तित्व ही समाप्त हो जाता। भाई को असमंजस में देख कर यमुना बोलीं – आप चिंता न करें मुझे यह वरदान दें कि जो लोग आज के दिन बहन के यहाँ भोजन करके, इस मथुरा नगरी स्थित विश्राम घाट पर स्नान करें वे तुम्हारे लोक को न जाएँ। इसे यमराज ने स्वीकार कर लिया। उन्होंने बहन यमुनाजी को आश्वासन दिया – ‘इस तिथि को जो सज्जन अपनी बहन के घर भोजन नहीं करेंगे उन्हें मैं बाँधकर यमपुरी ले जाऊँगा और तुम्हारे जल में स्नान करने वालों को स्वर्ग होगा।’ तभी से यह त्यौहार मनाया जाता है।

भाई-दूज की पूजा विधि

भाई-दूज के दिन बहनें अपने भाई के माथे पर टीका लगा उसकी लंबी उम्र की कामना करती हैं। इस दिन सुबह पहले स्नान करके विष्णु भगवान और गणेश जी की पूजा करनी चाहिए। इसके बाद भाई को तिलक लगाना चाहिए। भैया दूज वाले दिन बहनें आसन पर चावल के घोल से चौक बनाएं। इस चौक पर अपने भाई को बिठाकर उनके हाथों की पूजा करें।

सबसे पहले बहन अपने भाई के हाथों पर चावलों का घोल लगाए। उसके ऊपर सिंदूर लगाकर फूल, पान, सुपारी तथा मुद्रा रख कर धीरे-धीरे हाथों पर पानी छोड़ते हुए मंत्र बोले

“गंगा पूजा यमुना को, यमी पूजे यमराज को।

सुभद्रा पूजे कृष्ण को गंगा यमुना नीर बहे

मेरे भाई आप बढ़ें फूले फलें।”

इस दिन सुबह पहले स्नान करके विष्णु और गणेश जी की पूजा करनी चाहिए। इसके उपरांत भाई को तिलक लगाना चाहिए।


लाइक करें हमारे फेसबुक पेज को और न्यूज से सम्बंधित वीडियो देखने के लिए विजिट करें हमारे यूट्यूब चैनल को।



इसे भी पढें:

Leave a Reply

India vs Pakistan Live Match Free mein Kaise dekhen | T20 World Cup Live Streaming App धनतेरस पर करें ये 1 उपाए, होने लगेगी धन की बारिश धनतेरस पर भूलकर भी नहीं खरीदनी चाह‍िए ये वस्‍तुएं, होता है अशुभ किडनी खराब होने के लक्षण और उपाय | Kidney Damage Symptoms in Hindi
%d bloggers like this: