चैंपियन्स ट्रॉफी का अगला मैच भारत हार सकता है, जानिए क्यूँ?

चैंम्पियन्स ट्रॉफी में पाकिस्तान के उपर भारत की जीत से हम सभी बहुत खुश हैं लेकिन इस जीत की खुशी में हमे कुछ बातें याद रखनी होगी। भारत ने कल बहुत अच्छा खेल दिखाया। बल्लेबाजी और गेंदबाजी में पाकिस्तान से मीलों आगे था भारत। लेकिन एक फील्ड ऐसा था जिसमें हमारी टीम फिसड्डी साबित हुई वो है क्षेत्ररक्षण। यह मैच दोनों टीमों के खराब क्षेत्ररक्षण का गवाह बना।
worse-fielding-of-india-against-pakistan
भारत और पाकिस्तान के मैच में पाकिस्तान की फील्डिंग बहुत खराब रही। पाकिस्तानी खिलाड़ियों ने कोहली और युवराज के कैच टपकाए और कई मिस-फील्डिंग भी की यानि जहाँ रन नही थे वहाँ भी रन दे दिए। पाकिस्तान की ऐसी फील्डिंग देखकर कोई आश्चर्य नही हुआ लेकिन हैरानी तो तब हुई जब भारतीय टीम भी पाकिस्तान की तरह हीं दोयम दर्जे की फील्डिंग करने लगी। भुवनेश्वर और जाधव ने भी कैच छोड़कर पाकिस्तानी खिलाड़ियों की बराबरी कर ली वहीं भारतीय खिलाड़ियों ने भी मिस-फील्डिंग से रन लुटाए। गनीमत थी कि पाकिस्तान इसका फायदा नही उठा सका और ये मैच हार गया।worse-fielding-of-india-against-pakistanभारत का अगला मुकाबला श्रीलंका और उसके बाद दक्षिण अफ्रीका से है। श्रीलंका ने इस बार ज्यादातर नए खिलाड़ियों को मौका दिया है और वे सभी युवा है इसलिए बल्लेबाजी, गेंदबाजी और फील्डिंग में वो भारत की युवा टीम को टक्कर दे सकते हैं। असली खतरा दक्षिण अफ्रीका से है। हम सभी जानते हैं कि भारत और दक्षिण अफ्रीका की गेंदबाजी और बल्लेबाजी विश्व स्तर की है। लेकिन पाकिस्तान के खिलाफ मैच के बाद से दक्षिण अफ्रीका और भारत के बीच जो एक अंतर दिखा है वो है दोनो टीमों की फील्डिंग। इन दोनों टीमों की बल्लेबाजी और गेंदबाजी मजबूत होने के कारण सिर्फ फील्डिंग ही ऐसी चीज है जिसके दम पर दक्षिण अफ्रीका हमे हरा सकता है। इसलिए भारत को पाकिस्तान के मैच से सबक लेते हुए अपने क्षेत्ररक्षण सुधारने पर ध्यान देना होगा।

इसे भी पढ़ें: चैम्पियन्स ट्रॉफी में भारत और पाकिस्तान के बीच महामुकाबला आज, सारी तैयारियां पूरी

अगर हम दक्षिण अफ्रीका से जैसे-तैसे जीत भी गए तो सेमीफाइनल में हमारी टीम को ऑस्ट्रेलिया या न्यूजीलैंड से मुकाबला होगा और इन दोनों टीमों की फील्डिंग के बारे में तो सभी को पता है। अपने क्षेत्ररक्षण से हीं ये टीमें 50-60 रन बचा लेती हैं। ऐसे में आगे बहुत कड़ा मुकाबला होना है। पहले के मुकाबले इस बार की पाकिस्तानी टीम कमजोर थी इसलिए इस जीत से ज्यादा खुश होने के बजाय हमारी टीम को अगले मुकाबलों पर ध्यान केंद्रित करना होगा क्यूँकि असली इम्तिहान तो अब है।

इसे भी पढ़ें:

loading…


Leave a Reply