क्या आप जानते हैं रेलवे स्टेशन पर सुनाई देने वाली मधुर आवाज किसकी है?

हम सभी ने अपने जीवन में कभी न कभी ट्रेन से यात्रा जरूर की होगी। इस दौरान रेलवे स्टेशन पर आपको एक चिर-परिचित आवाज में “यात्रीगण कृपया ध्यान दें” जरूर सुनने को मिला होगा। कभी आपने इस बात को नोटिस किया है कि भारत के सभी स्टेशनों पर ये आवाज एक जैसी हीं क्यों होती है?

ये अनाउंसमेंट सुनने के बाद आपके दिमाग में इस मधुर आवाज की मालकिन का काल्पनिक चेहरा भी घुम जाता होगा? कुछ लोगों को ये कम्प्युटराइज्ड आवाज भी लगती होगी। अगर आप भी ऐसा हीं सोचते हैं तो अब ये सोच बदल दीजिए क्योंकि आज हम आपको बताने जा रहे हैं इस आवाज के पीछे छुपी महिला के बारे में।

यात्रीगण कृपया ध्यान दें

यात्रीगण कृपया ध्यान दें
Source

स्टेशनों पर गुंजने वाली यह मधुर आवाज सरला चौधरी जी की है। सरला चौधरी जी ने 1982 में रेलवे में अनाउंसर के पद के लिए परीक्षा दी थी जिसमे पास होने पर उन्हे अस्थायी रूप से दैनिक वेतन पर रखा गया था। लेकिन उनकी मधुर आवाज और कड़ी मेहनत को देखते हुए 1986 में उन्हे रेलवे ने परमानेंट कर दिया।


एक समाचार पत्र को दिए इंटरव्यू में सरला चौधरी जी ने बताया कि “पहले कम्प्युटर नही होने के कारण मुझे मैनुअली अनाउंस करना पड़ता था।” बाद में रेलवे ने सरला जी की आवाज को रिकॉर्ड कर लिया और आज भी जब ट्रेन अनाउंसमेंट मैनेजमेंट स्टेशन पर अनाउंसमेंट की जिम्मेदारी संभालता है तब भी उनकी आवाज को कम्प्युटराइज्ड आवाज के साथ मिक्स करके चलाया जाता है।

इसे भी पढें: क्या आप जानते हैं ट्रेन के आखिरी बोगी पर लिखे ‘X’ के निशान का मतलब

अपनी आवाज सुन खुश होती हैं सरला

हालांकि सरला चौधरी जी अब इस पद के साथ नही जुड़ी हुई हैं। उन्होने 12 साल पहले अपने पारिवारिक कारणों से इस पद से इस्तीफा दे दिया था। अभी फिलहाल वो कल्याण के ओएचैई विभाग में बतौर अधीक्षक सेवा दे रही हैं। सरला जी अपनी अनाउंसर की जॉब को याद करते हुए कहती हैं कि “जब भी वो ट्रेन से कही जाती हैं और अनाउंसमेंट में उन्हे अपनी आवाज सुनाई देती है तो उन्हे बहुत खुशी होती है और जब पैसेंजर्स मेरी आवाज की तारीफ करते हैं बिना ये जाने की इस आवाज के पीछे कौन है तो मै बता नही सकती कि मुझे कितनी खुशी मिलती है।”



इसे भी पढें:

loading…

Leave a Reply