श्रीलंकाई तेज गेंदबाज लसिथ मलिंगा पर लगा एक साल का बैन

श्री लंका क्रिकेट बोर्ड ने तेज गेंदबाज लसिथ मलिंगा पर अनुशासनात्मक कार्रवाई करते हुए 1 साल तक का बैन लगा दिया है। ऐसा कहा जा रहा है कि कुछ समय पहले मलिंगा ने श्री लंका के खेल मंत्री को ट्विटर पर “बन्दर” कहा था जिससे खेल मंत्री ने इसे अपना अपमान समझा था और वो नाराज हो गए थे।

बता दें कि चैंपियंस ट्रॉफी में श्रीलंका की हार से नाराज खेलमंत्री जयशेखरा ने टीम की आलोचना की थी जो लसिथ मलिंगा को अच्छा नही लगा और उन्होने इस पर टिप्पणी करते हुए कहा कि, “एक बंदर को तोते के घोंसले के बारे में क्या पता होगा? ऐसा लग रहा है कि एक बंदर तोते के घोंसले में ही बैठकर उसी घोंसले के बारे में बोल रहा हो।”



Sri Lanka Ban Lasith malinga
Image Source: Adaderana.lk

इस टिप्पणी से नाराज खेलमंत्री ने बोर्ड को अनुशासनात्मक कार्रवाई करने के लिए कहा और साथ हीं यह भी आदेश जारी किया कि तीन महीने के अन्दर सभी खिलाड़ियों को अपना फिटनेस साबित करना होगा। जो खिलाड़ी फिट नही होगा उसे टीम से बाहर का रास्ता दिखा दिया जाएगा।


इसके बाद श्री लंका क्रिकेट बोर्ड ने जाँच बैठाया जिसमे मलिंगा को दोषी पाया गया। इससे पहले श्रीलंका क्रिकेट बोर्ड की विशेष जांच पैनल ने अनुबंध संबंधी उल्लंघन मामले में भी मलिंगा को दो बार दोषी पाया। जिसे लेकर मलिंगा पर छह माह का प्रतिबंध लगाया गया है। हालांकि मलिंगा जिम्बाब्वे के खिलाफ अगला वनडे मैच खेलेंगे लेकिन उन्हे उस वनडे मैच की फीस का 50 प्रतिशत बतौर जुर्माना देना होगा।

इसे भी पढें: महिला विश्वकप: भारत ने वेस्टइंडीज को हरा कर लगातार दूसरी जीत दर्ज की

क्रिकेट की खबरों के लिए मशहूर वेबसाइट ‘ईएसपीएनक्रिकइन्फो डॉट कॉम’ की ने अपने रिपोर्ट में बताया है कि, अनुबंध मामले में दोषी पाये गए लसिथ मलिंगा पर श्रीलंका क्रिकेट बोर्ड ने अनुशासनात्मक कार्रवाई की है। हालांकि मलिंगा जिम्बाब्वे के खिलाफ सीरीज खेल सकेंगे।

श्रीलंका क्रिकेट बोर्ड ने पहले दो वनडे मैचों के लिए घोषित 13 सदस्यीय टीम में उन्हे भी शामिल किया है। इस बीच मलिंगा चाहे तो इस बैन के खिलाफ अपील भी कर सकते हैं। अगर वो अपील नही करते हैं या बैन जारी रहता है तो भारत के खिलाफ महत्वपूर्ण सीरिज में श्रीलंका को मलिंगा के बिना ही उतरना पड़ेगा।

इसे भी पढें:

loading…


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *