इस दिशा में पैर रख कर न सोएं, हो सकता है भारी नुकसान


हमारे शरीर के लिए अच्छा खाना बहुत जरुरी होता है, उसी तरह एक अच्छी नींद भी हमारे शरीर के बहुत जरुरी होती है। लंबे समय तक नींद न आना या फिर पर्याप्त नींद न लेना भी आपके स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकता है। डॉक्टरों के अनुसार पर्याप्त नींद नही लेने से स्वास्थ्य संबंधी कई तरह की बीमारियां हो जाती है वहीं वास्तुशास्त्र में भी सही नींद की स्थिति के बारे में विस्तृत दिशानिर्देश हैं। वास्तुशास्त्र के अनुसार सही दिशा में सिर रख कर नहीं सोने से भी कई तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ जाता है। आइये जानते हैं किस दिशा में सिर रख कर सोने से क्या होता है।



वास्तुशास्त्र
Source

पूर्व दिशा में सिर रख के सोना

पूर्व दिशा में सिर करके सोने के कई स्वास्थ लाभ होते हैं, इस दिशा में आपको अच्छी नींद आएगी, जिससे आप ऊर्जावान और शक्तिशाली महसूस करते हैं। इसके अलावा यह स्थिति छात्रों के लिए बहुत अच्छी है क्योंकि इस दिशा में सिर रख के सोने से आपकी एकाग्रता बढ़ती है।


पश्चिम दिशा में सिर रख के सोना

यह एक मामूली लाभदायक नींद की स्थिति है, इस दिशा में सिर रख के सोने से जल्दी और चैन की नींद आती है। आप इस स्थिति में किसी भी नकारात्मक विचारों पर काबू पा सकते हैं।

उत्तर दिशा की तरफ सिर करके सोना

पृथ्वी में चुम्बकीय शक्ति होती है। इसमें दक्षिण से उत्तर की ओर लगातार चुंबकीय धारा प्रवाहित होती रहती है। जब हम दक्षिण की ओर सिर करके सोते हैं, तो यह ऊर्जा हमारे सिर की ओर से प्रवेश करती है और पैरों की ओर से बाहर निकल जाती है। ऐसे में सुबह जगने पर लोगों को ताजगी और स्फूर्ति महसूस होती है। अगर हम उत्तर की तरफ सिर और दक्षिण की ओर पैर करके सोते हैं तो यह चुम्बकीय धारा पैरों से प्रवेश करेगी है और सिर तक पहुंचेगी। इस चुंबकीय ऊर्जा से मानसिक तनाव बढ़ता है और सवेरे जगने पर मन भारी-भारी रहता है।


दक्षिण दिशा की तरफ सिर करके सोना

दक्षिण दिशा की ओर सिर करके सोना बेहतर माना गया है। ऐसी स्थ‍िति में स्वाभाविक तौर पर पैर उत्तर दिशा में रहेगा। शास्त्रों के साथ-साथ प्रचलित मान्यताओं के अनुसार, सेहत के लिहाज से इस तरह सोने का निर्देश दिया गया है। यह मान्यता भी वैज्ञानिक तथ्यों पर आधारित है।

इसे भी पढें:

loading…



Leave a Reply