भारत में पहली बार मिला यह अनोखा ब्लड ग्रुप, दुनियाभर के डॉक्टर हैं परेशान


दुनिया में लगभग सभी लोगों के ब्लड ग्रुप से रिलेटेड ब्लड आसानी से मिल जाते हैं लेकिन 7 तरह के ब्लड ग्रुप ऐसे होते हैं जिनसे मिलता-जुलता ब्लडग्रुप मिलना लगभग नामुमकिन है। इन रेयर ब्लड ग्रुप को मेडिकल की भाषा में कॉलटोल कहा जाता है। ये ब्लड ग्रुप इतने रेयर होते हैं कि एक हीं देश में उस ब्लड ग्रुप के दो लोगों का मिलना भी लगभग असंभव है।

ब्लडग्रुप
Source

क्या है पूरा मामला

ऐसा हीं एक मामला भारत में भी देखने को आया है। गुजरात में रहने वाले एक व्यक्ति का ब्लड सैंपल भी इसी रेयर ब्लड ग्रुप की कैटेगरी में पाया गया है। इस खबर ने सभी को चौंका दिया है। इस रेयर ब्लड ग्रुप के मालिक के ब्लड सैंपल की जांच की जा रही है और उसमे चौंकाने वाले नतीजे सामने आए हैं। इस व्यक्ति का ब्लड ग्रुप अभी तक ज्ञात अन्य ब्लड ग्रुप से मैच नही करता है, इतना हीं वो व्यक्ति न तो किसी से ब्लड ले सकता है और न हीं किसी को अपना ब्लड डोनेट कर सकता है।




इसे भी पढें: तेजी से मोटापा कम करना चाहते हैं तो इसे जरूर पढें

भारत में इस तरह के रेयर ब्लड ग्रुप मिलने का यह पहला मामला है। इस का पता तब चला जब गुजरात के एक परिवार ने अपने एक मरीज का ब्लड टेस्ट करवाने के लिए सैंपल भेजा। जब लैब में ब्लड का परीक्षण शुरू हुआ तो डॉक्टर ये देखकर हैरान रह गए कि वह ब्लड ग्रुप अभी तक ज्ञात अन्य ब्लड ग्रुप की कैटेगरी में आ ही नहीं रहा था।



ब्लडग्रुप


फिर एक बड़े एक्सपर्ट्स को बुलाया गया, लेकिन वह भी फेल हो गए। इसके बाद डॉक्टरों की टीम ने वह सैंपल डब्ल्यूएचओ यानि विश्व स्वास्थ्य संगठन को भेजा। वहां भी उस सैंपल को कड़े परीक्षण और हर कसौटी पर परखा गया। उसके बाद यह सच सामने आया कि यह ब्लड ग्रुप रेयर है। यह अपने तरह का का पहला और एकमात्र ब्लड ग्रुप निकला। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने इस रेयर ब्लड ग्रुप को आइएनआरए यानि “इनरा” का नाम दिया है। इन+रा ‘इन’ का अर्थ इंडिया से है और ‘रा’ उस व्यक्ति के नाम के पहले अक्षर हैं जिसका यह ब्लड ग्रुप है।

अब दुनिया भर के डॉक्टर इस बात को लेकर शोध कर रहे हैं कि आखिर यह ब्लडग्रुप अभी तक ज्ञात ब्लड ग्रुप से अलग कैसे बना। इस सवाल को ढूंढ़ने के लिए संबंधित व्यक्ति के खून की जांच चल रही है।

इसे भी पढें:

loading…




Leave a Reply