अजब-गजब: कर्मचारी ने माँगी चिकन खाने के लिए 7 दिन की छुट्टी

अपने स्कूल टाइम से लेकर ऑफिस तक छुट्टियों के लिए आपने कई बार आवेदन भी किया होगा। जॉब करते वक्त तो फिल्में देखने के लिए या दोस्तों के साथ घूमने के लिए आपने अपने बॉस से बहाने बना कर भी छुट्टी ली होगी। लेकिन हम गारंटी के साथ कह सकते हैं कि आपने आज तक छुट्टी के लिए ऐसा कारण नही बताया होगा जैसा रेलवे के एक कर्मचारी ने बताया है।

इसे भी पढें: क्या आप जानते हैं कि टीम इंडिया सिर्फ ब्लू जर्सी हीं क्यूँ पहनती है?

वैसे तो छुट्टियां लेना सभी कर्मचारियों का अधिकार होता है। कर्मचारी चाहे वह प्राइवेट जॉब में हो या गवर्नमेंट जॉब में, अपनी सुविधानुसार छुट्टी जरूर लेते हैं या अपनी बची हुई छुट्टियों का उपयोग करते हैं। लेकिन अगर आपके पास छुट्टी लेने का कोई कारण ही न हो तो आप क्या करेंगे? बहरहाल एक ऐसा हीं मामला सामने आया है जिसमे एक कर्मचारी ने चिकन खाने के नाम पर एक सप्ताह की छुट्टी माँगी है।


क्या है पूरा मामला?

अजब-गजब: कर्मचारी ने माँगी चिकन खाने के लिए 7 दिन की छुट्टी
Image Source: thehealthsite.com

इस कर्मचारी का नाम पंकजराज गोंड है जो साउथ-ईस्ट सेंट्रल रेलवे के विलासपुर डिविजन के दीपाका में टीए-2 के तौर पर काम करते है। पंकजराज ने यह कह कर छुट्टी माँगी है उन्हे श्रावण मास शुरू होने से पहले चिकन खाना है इसलिए उन्हे 20 से 27 जून तक 7 दिनों की छुट्टी चाहिए। पंकजराज का कहना है कि वह श्रावण मास में चिकन या मांस नही खाते हैं और अगर वे एक महीने तक चिकन नही खाएंगे तो वो कमजोर हो जाएंगे जिसका असर उनके काम पर पड़ेगा। इसलिए भविष्य में चिकन न खाने से होने वाली कमजोरी से बचने के लिए वो आठ दिनों लगातार चिकन खाना चाहते हैं।


इसे भी पढें: विडियो: यह टीचर कपड़े उतारकर पढ़ाती है जीव विज्ञान, कारण जानकर हैरान हो जाएंगे

जैसे हीं इस कर्मचारी की छुट्टी की एप्लीकेशन सोशल मिडिया पर वायरल हुई तो लोगों ने मजे लेना शुरू कर दिया। पंकजराज को छुट्टी मिली है या नही ये अभी कन्फर्म नही हो सका है हालांकि सोशल मीडिया पर वायरल हुए उनके एप्लीकेशन में दीपाका के स्टेशन मास्टर के हस्ताक्षर और मुहर लगी हुई है। सोशल मीडिया पर कुछ लोग इसे फेक भी बता रहे हैं। इस एप्लीकेशन की सत्यता की पुष्टि अभी तक नही हो सकी है।




इसे भी पढें:

loading…


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *