प्रधानमंत्री मोदी का इजरायल दौरा आज से, जानें क्यों ऐतिहासिक है पीएम मोदी की इजरायल यात्रा

भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी आज इजरायल के दौरे पर रवाना हो गए। वैसे तो प्रधानमंत्री का हर दौरा ऐतिहासिक होता है लेकिन ये दौरा उन सभी से हट कर है। इस दौरे में बहुत कुछ ऐसा होना है जिससे सभी भारतवासियों का सर गर्व से ऊँचा हो जाएगा। इजरायल के प्रधानमत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने कुछ दिन पहले ट्वीट कर के कहा भी था कि मेरे दोस्त नरेन्द्र मोदी आ रहे हैं।

pm narendra modi visit to israel
Image Source: India Today

एक देश के प्रधानमंत्री द्वारा लिखी गई इस एक लाइन से हीं समझा जा सकता है कि यह दौरा कितना ऐतिहासिक होगा। यहाँ राष्ट्राध्यक्षों का ही नही बल्कि दो पूराने और घनिष्ठ मित्रों का भी मिलन होगा। इजरायल हमेशा से भारत का सच्चा मित्र रहा है हालांकि भारत की पूर्ववर्ती सरकारों ने इजरायल के साथ राजनयिक संबंध बनाए रखने में कोई दिलचस्पी नही दिखाई लेकिन इजराइ्यल ने सामरिक रिश्ते बखूबी निभाए और भारत को 1962, 1965, और 1971 की जंग में आधुनिक हथियार भी दिए।

इसे भी पढें: पीएम मोदी ने ट्रम्प को सपरिवार भारत आने का दिया निमंत्रण

क्यूँ ऐतिहासिक है इजराइल दौरा

1992 में तत्कालीन प्रधानमंत्री नरसिंह राव ने इजराइल को पहली बार भारत का दोस्त माना था और राजनयिक संबंधों की शुरूआत की थी। तब से दोनों देशों के बीच राजनयिक और कूटनीतिक रिश्तों के 25 साल पूरे हो गए हैं। इसके अलावा आजादी के बाद से आज तक कोई भी भारतीय प्रधानमंत्री इजरायल की यात्रा पर नही गया है। मोदी जी इजरायल दौरे पर जाने वाले पहले प्रधानमंत्री बन गए हैं। एक ऐसा देश जिसने हमेशा हमारी मदद की हो उसके दौरे पर जाने में किसी प्रधानमंत्री को 70 साल लग गए ये हैरानी का विषय है।

pm narendra modi visit to israel
Image Source: Sanjeevni Today

प्रधानमंत्री की इस यात्रा से दोनों देशों के आपसी संस्कृति, रिश्ते और सहयोग और भी मजबूत होंगे। इससे पहले 2015 में राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी ने भी इजरायल की यात्रा की थी और ऐसा करने वाले वह देश के पहले राष्ट्रपति थे। मोदी सरकार में विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने भी कुछ महीने पहले इजरायल का दौरा किया था। इससे पहले पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी जी के कार्यकाल में इजरायल के तत्कालीन राष्ट्रपति एरियल शेरोन भारत आए थे और वह भारत के दौरे पर आने वाले पहले इजरायली राष्ट्रपति थे। बीजेपी ने हमेशा से इजरायल के साथ संबंधों को नई ऊँचाई पर पहुँचाने पर जोर दिया है लेकिन कांग्रेस के समय में इजरायल से ज्यादा फिलीस्तीन को महत्व दिया जाता था।

इसे भी पढें: पीएम मोदी कल जायेंगे 2 दिवसीय इजराइल दौरे पर

प्रधानमंत्री मोदी का होगा भव्य स्वागत

इजरायल के प्रधानमंत्री कार्यालय ने ये सूचना दी है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को को एयरपोर्ट पर रिसीव करने के लिए खुद इजरायली प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू वहाँ मौजूद रहेंगे। बता दें कि अभी तक इजरायल के प्रधानमंत्री सिर्फ अमेरिकी राष्ट्रपति और पोप के स्वागत के लिए हीं एयरपोर्ट पर जाते थे। इससे हीं अंदाजा लग जाता है कि इजरायल की नजर में भारत और प्रधानमंत्री मोदी का कितना महत्व है। पीएमओ के अनुसार पीएम नेतन्याहू इस यात्रा के दौरान हर वक्त प्रधानमंत्री मोदी के साथ रहेंगे।

कई कार्यक्रमों में हिस्सा लेंगे पीएम मोदी

pm narendra modi visit to israel
Image Source: Dainik Bhashkar

अपने तीन दिन की इजरायल यात्रा में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 18 कार्यक्रमों में हिस्सा लेंगे। इन कार्यक्रमों में द्विपक्षीय बैठकें, मेगा कम्युनिटी प्रोग्राम, इजरायल के टॉप सीईओ के साथ मीटिंग करेंगे और इसके अलावा एनआरआई और छात्रों से मुलाकात भी करेंगे। प्रधानमंत्री हैफा भी जाएंगे जहाँ पहले विश्व युद्ध में हिस्सा लिए भारतीय सैनिकों को श्रद्धांजलि देंगे। इसके अलावा वह पूर्व नाजी चांसलर हिटलर की क्रूरता के शिकार हुए लोगों को भी श्रद्धांजलि देंगे। हालांकी प्रधानमंत्री मोदी परंपरा को तोड़ते हुए फिलिस्तीन नही जाएंगे। अब तक के जितने भी भारतीय राजनेता इजरायल गए हैं वो फिलीस्तीन जरूर गए हैं लेकिन पहले गृहमंत्री राजनाथ सिंह और अब प्रधानमंत्री मोदी ने इस परंपरा को तोड़ दिया है।

इसे भी पढें: जानिए मोदी सरकार के 3 साल के उपलब्धियों के बारे में

इन मुद्दों पर होगी खास बातचीत

pm narendra modi visit to israel
Image Source :- http://en.kremlin.ru

प्रधानमंत्री मोदी के इस दौरे पर इजरायल के साथ आर्थिक, कारोबारी, सुरक्षा, कृषि, आपदा प्रबंधन, सिंचाई और जल प्रबंधन जैसे विषयों पर महत्वपूर्ण बातचीत होगी। इसके अलावा प्रधानमंत्री इजरायल के साथ रक्षा मामलों पर करार कर सकते हैं। ऐसा माना जा रहा है कि मोदी भारतीय नौसेना के लिए एयर डिफेंस सिस्टम जैसे बराक-8 वायु रक्षा मिसाइल प्रणाली और स्पाइक टैंक-रोधी मिसाइलों की खरीद का करार भी कर सकते हैं। इसके अलावा दोनों देश लंबे समय से आतंकवाद से पीड़ित रहे हैं इसलिए दोनों देशों के बीच आतंकवाद के मुद्दे पर भी चर्चा होगी।

इजरायल से सीखेंगे खेती और जल प्रबंधन के आधुनिक तरीके

इजरायल समुद्र से घिरा देश है जिस कारण वहाँ पीने के पानी की समस्या रहती है लेकिन वहाँ के वैज्ञानिकों ने जल प्रबंधन की तकनीक से समुद्र के खारे पानी को भी पीने और सिंचाई योग्य बना दिया है। इसके अलावा वहाँ का अत्यधिक गर्म मौसम खेती के लायक नही है लेकिन फिर भी इजरायल ने तकनीक के दम पर बहुत कम पानी की खपत से हीं सब्जियां और फल उगाने में सफलता पायी है। प्रधानमंत्री मोदी जल प्रबंधन और खेती के आधुनिक तरीके को भी समझने की कोशिश करेंगे।

इसे भी पढें:

loading…


Leave a Reply