20 सालों के शानदार सफर के बाद कैसिनी अंतरिक्षयान ने ली अंतिम विदाई

अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी NASA द्वारा 20 साल पहले शनि ग्रह की जानकारी जुटाने के लिए छोड़ा गया कैसिनी स्पेसक्राफ्ट शुक्रवार को अंतरिक्ष में शनि ग्रह के ऊपर नष्ट हो गया। कैसिनी के 20 साल के शानदार सफर के बाद शुक्रवार सुबह स्पेसक्राफ्ट से अचानक सिग्नल आना बंद हो गया। कैसिनी स्पेसक्राफ्ट किसी उल्का पिंड की तरह जलकर नष्ट हो गया। नष्ट होने के समय वह शनि की कक्षा में था।

कैसिनी का सफर

कैसिनी अंतरिक्षयान
Image: Google

बता दें कि कैसिनी को 1997 में अंतरिक्ष अनुसंधान के लिए भेजा गया था। उसके नष्ट होने के करीब 83 मिनट बाद धरती पर इसकी खबर पहुंची। कैसिनी अब तक का इकलौता स्पेसक्राफ्ट था जो शनि की कक्षा में पहुंचा था। उसने शनि ग्रह, उसके छल्ले और उसके मून्स को नजदीक से दिखाया था। कैसिनी ने गुरुवार को शनि ग्रह की आखिरी तस्वीरें ली थी। उसने शुक्रवार सुबह शनि के वातावरण में प्रवेश किया था।


कैसिनी अभियान के खत्म होने का औपचारिक ऐलान करते हुए प्रोग्राम मैनेजर अर्ल मेज ने कहा, ‘यह एक अविश्वसनीय मिशन था, अद्भुत स्पेसक्राफ्ट था और आप सभी अविश्वसनीय टीम हैं। मैं इसे मिशन का द एन्ड कहूंगा।’ इस मौके पर कैसिनी पर नजर रखने वाली टीम पर्पल रंग की शर्ट पहनी हुई थी और उन्होंने एक दूसरे के गले लगाया और हाथ मिलाया।

इसे भी पढें: सावधान: आपके स्मार्टफोन के बैटरी बैकअप कम होने की वजह कहीं ये तो नहीं है

कैलिफॉर्निया के जेट प्रोपल्शन लैब में 1500 से ज्यादा लोग जुटे हुए थे, जिनमें से ज्यादातर कैसिनी मिशन की टीम के पूर्व या मौजूदा सदस्य थे। इन लोगों ने मिशन के खत्म होने का जश्न बनाया।

प्रॉजेक्ट साइंटिस्ट लिंडा स्पिल्कर ने ध्यान दिलाया कि कैसिनी शनि ग्रह पर 13 सालों तक मैराथन वैज्ञानिक अन्वेषण करता रहा। उन्होंने कहा कि आज हम यहां जश्न मनाने के लिए जुटे हैं क्योंकि कैसिनी ने अपने सफर को पूरा कर लिया है।

कैसिनी अंतरिक्षयान
Image: Zee News

जिस समय स्पेसक्राफ्ट नष्ट हुआ उस वक्त उसकी स्पीड 1,22,000 किलोमीटर प्रति घंटे से ज्यादा थी। शनि ग्रह की कक्षा में 13 साल बिताने के बाद कैसिनी का फ्यूल टैंक खत्म होना शुरू हो गया था। इसी के बाद NASA ने इसे ग्रैंड फिनाले नाम दिया था।

कैसिनी स्पेसक्राफ्ट को 1997 में छोड़ गया था। 2004 में यह सौरमंडल के दूसरे सबसे बड़े ग्रह शनि पर पहुंचा था। 2005 में यह शनि के सबसे बड़े मून टाइटन पर उतरा था। धरती से कोई भी स्पेसक्राफ्ट इतनी ज्यादा दूरी नहीं तय की है। कैसिनी ने 4 लाख 53 हजार से ज्यादा तस्वीरें ली थी और इसने कुल 4.9 अरब मील का सफर किया। यह एक अंतरराष्ट्रीय अभियान था जिसमें 27 देशों ने हिस्सा लिया था। इस अभियान पर 3.9 अरब डॉलर खर्च हुए।

इसे भी पढें:

loading…

Source: NBT

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *