चैंपियंस ट्रॉफी: बांग्लादेश को हराकर फाइनल का टिकट कटाना चाहेगा भारत


चैंपियंस ट्रॉफी के सेमीफाइनल में गुरुवार को भारत और बांग्लादेश के बीच मुकाबला होगा। इस मैच को लेकर बांग्लादेश के समर्थकों में जबर्दस्त उत्साह है लेकिन भारतीय फैन्स इसे ज्यादा अहमियत नही दे रहे हैं। वो मान कर चल रहे हैं कि भारत यह मैच जीत चुका है लेकिन क्या वाकई में ये मैच इतना आसान होगा? आइये एक नजर डालते हैं पिछले कुछ सालों में बांग्लादेश के प्रदर्शन पर।



इसे भी पढें: चैम्पियंस ट्रॉफी: बांग्लादेश को 8 विकेट से हरा कर इंग्लैंड ने की जीत से शुरुआत

पिछले कुछ सालों में भारत और बांग्लादेश के बीच कई मैच हुए हैं जिनमें कुछ मैच भारत ने जीते हैं तो कुछ में बांग्लादेश ने भारत को चौंकाया है। हालांकि भारत से बांग्लादेश जिन मैचों में हारा है उस मैचों को उसके प्रशंसको ने फिक्स या अंपायर की मिलीभगत बताया है। मतलब अपनी हार पर मंथन करने की जगह बांग्लादेश और उसके प्रशंसको में एक गलत धारणा घर कर गई है कि अगर वे हारते हैं तो इसके पीछे बीसीसीआई का पैसा है। बांग्लादेशी फैन्स और प्रेस रिपोर्टर्स का मानना है कि बीसीसीआई आइसीसी और अंपायर को अपने पैसे के दम पर खरीद लेती है और वो सभी मिल कर भारत को जीता देते हैं।



वक्त के साथ बढ़ी प्रतिद्वंद्विता

India vs Bangladesh in Champions Trophy


बांग्लादेश ने हाल के समय में काफी अच्छी क्रिकेट खेली है और चैंपियंस ट्रॉफी में भी न्यूजीलैंड जैसी टीम को हराया है। बांग्लादेश की इस इक्की-दुक्की जीत से उसके समर्थकों ने यह गलतफहमी पाल ली है कि उनकी टीम दूनिया की सबसे मजबूत टीम है और अगर वे मैच हारते हैं तो यह अंपायर और आइसीसी की साजिश के कारण हारते हैं। बांग्लादेश की टीम बहुत तेजी से विश्व मंच पर अपनी उपस्थिति दर्ज करा रही है लेकिन अभी उसे टॉप पर पहुँचने में समय लगेगा ये बात उस टीम के सदस्य मानने को तैयार नही है।


अगर बांग्लादेश के समर्थकों की बात मानी जाए तो भारत-बांग्लादेश मैच भी अब भारत-पाकिस्तान की तरह हो चुका है हालांकि भारतीय फैन्स ऐसा नही सोचते हैं। बर्मिंघम में होने वाले मैच के लिए मंगलवार से हीं बांग्लादेश के फैन्स अपने टीम की जर्सी पहन कर वहाँ सड़कों पर घूम रहे हैं। इसके अलावा इस सेमीफाइनल के लगभग सारे टिकट बिक चुके हैं जिससे स्टेडियम के खचाखच भरे होने की उम्मीद है।

कब-कब जीता है बांग्लादेश

India vs Bangaldesh in Champions Trophy

बांग्लादेश ने भारत को पहली बार 2007 के वनडे विश्व कप में हराया था। उस हार के साथ भारत विश्व कप से बाहर हो गया था। उसके बाद 2015 में घरेलू सीरीज में भी बांग्लादेश पर जीत दर्ज की थी। जबकि वर्ल्ड टी-20 में एक नजदीकी मुकाबले में बांग्लादेश की टीम भारत से 1 रन से हार गई थी। इसके अलावा 2015 के विश्व कप के क्वार्टर फाइनल में भारत ने बांग्लादेश को हरा कर विश्व कप से बाहर कर दिया था। इससे बांग्लादेश के फैन्स ही नही वहाँ की प्रधानमंत्री का भी गुस्सा भारत और आइसीसी पर फूटा था। बांग्लादेश की प्रधानमंत्री ने तो बांग्लादेश की हार के लिए खराब अंपायरिंग को जिम्मेदार ठहरा दिया था। वहीं विरोध में आइसीसी के अध्यक्ष मुस्तफा कमाल (बांग्लादेशी) ने भी अपने पद से इस्तीफा दे दिया था।

क्या कहना है बांग्लादेशी कोच का

हालांकि बांग्लादेश के श्रीलंकाई कोच चंडिका हथुरासिंघा चाहते हैं कि उनके खिलाड़ी भारत के खिलाफ होने वाले चैंपियंस ट्रॉफी के सेमीफाइनल मैच को बदले की भावना से नही बल्कि खुद को साबित करने के लिए मिले बड़े मौके के रूप में देखें। हथुरासिंघा ने कहा, ‘यह बहुत बड़ा मैच नहीं बल्कि बहुत बड़ा मौका है। अगर हम इसको इस तरह से देखेंगे तो यह हमारे लिए अच्छा रहेगा। प्रत्येक क्रिकेटर इस तरह का मौका चाहता है। इसलिए खिलाड़ी इस खेल को पसंद करते हैं। जूनियर हों या सीनियर मेरा सभी क्रिकेटरों के लिए यही संदेश है। इस मौके का भरपूर फायदा उठाओ।’


भारत और बांग्लादेश के बीच खेले जाने वाले दूसरे सेमीफाइनल मैच का सीधा प्रसारण गुरूवार 15 जून को बर्मिंघम से भारतीय समयानुसार दोपहर के 3 बजे किया जाएगा।

इसे भी पढें:

loading…



Leave a Reply