ऐसे पता करें कि कौन सा सामान भारत मे बना है और कौन सा मेड इन चाइना है

आजकल कई सारे संगठन स्वदेशी अपनाने की मांग कर रहे हैं। सोशल साइट्स पर भी स्वदेशी की मांग जोर पकड़ रही है ऐसे में आम उपभोक्ता समझ हीं नही पाता है कि उसने जो सामान खरीदा है वो किस देश में बना है। ज्यादातर लोगों को पता हीं नही चलता है कि कौन सा सामान भारत में बना है और कौन भारत से बाहर बना है। ऐसे में कुछ लोग गलतफहमी में देशी कंपनियों के सामान का हीं बहिष्कार करने लगते हैं।

आज हम आपको इस गलतफहमी से बचाने का तरीका ढूंढ लाए हैं। आपने देखा होगा कि हर सामान पर एक बारकोड बना होता है और उस पर कुछ नम्बर लिखे होते हैं। उन्ही नम्बर्स को देखकर आप पता लगा सकते हैं कि कौन सा सामान किस देश में बना है। आइये जानते हैं उस बारकोड नम्बर के बारे में विस्तार से।

कुछ प्रमुख देशों के बारकोड नम्बर्स:-

बारकोड नम्बर

1) 890 (भारत) – अगर आपने जो सामान खरीदा है उसका बारकोड 890 है तो समझ लीजिए कि वो सामान भारत में ही बना है।

2) 100-139 (अमेरिका) – अगर बार कोड पर 100 से 139 के बीच का कोई भी नम्बर हो इसका मतलब आप अमेरिकी प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल कर रहे हैं।

3) 450-59 (जापान) – बारकोड पर 450 से 459 की सीरिज का सीधा मतलब है कि यह मेड इन जापान है।

4) 460-469 (रूस) – इस नम्बर की सीरिज को रूस के लिए प्रयोग किया जाता है।

5) 471 (ताइवान) – ताइवान का बारकोड नम्बर 471 है।

6) 500-509 (ब्रिटेन) – 500 से 509 नम्बर तक के बारकोड का मतलब है कि उस प्रोडक्ट को ब्रिटेन में बनाया गया है।

7) 628 (सउदी अरब) – सउदी अरब के प्रॉडक्टस पर 628 नम्बर का लेबल लगा होता है।

8) 690-699 (चीन) – अगर आपको अपने सामान के बारकोड पर 690 से 699 के बीच का नम्बर दिखे तो इसका मतलब है कि वो मेड इन चाइना है।

बारकोड नम्बर
Photo Credit: Google

9) 729 (इजरायल) – इजरायल का बारकोड 729 है।


10) 896 (पाकिस्तान) – अगर बारकोड के शुरूआती तीन नम्बर 896 है तो वो पाकिस्तान निर्मित है।

11) 930-939 (ऑस्ट्रेलिया) – इस बारकोड का इस्तेमाल ऑस्ट्रेलिया के लिए किया जाता है।

12) 940-949 (न्यूजीलैंड) – न्यूजीलैंड में बने सामानों के लिए बारकोड 940 से 949 का इस्तेमाल किया जाता है।

यहाँ हमने चीन सहित कुछ प्रमुख देशों के बारकोड नम्बर्स के बारे में बताया है जिससे आपको आसानी से  इस बात का पता चल जाएगा कि कौन सा सामान मेड इन चाइना है और कौन सा मेड इन इंडिया।

इसे भी पढें:

loading…


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *