यदि आप भी वायरलेस माउस और कीबोर्ड का इस्तेमाल करते हैं तो इन खतरों के बारे में जरूर जान लें

टेक्नोलॉजी ने हमारे काम को बहुत आसान कर दिया है और आगे आने वाले समय में भी यह हमारे लिए उपयोगी साबित होगा। इसी टेक्नोलॉजी ने हमें स्मार्टफोन, कंप्यूटर और लैपटॉप जैसे अति विकसित मशीन भी दिया। टेक्नोलॉजी अब इतनी उन्नत हो चुकी है कि बिना हाथ लगाये हीं किसी मशीन को ऑपरेट किया जा सकता है। उन्नत टेक्नोलॉजी ने हमें लैपटॉप और कंप्यूटर को बिना हाथ लगाये चलाने के लिए वायरलेस माउस और कीबोर्ड भी दिया है जिसे कंप्यूटर से बिना वायर के कनेक्ट किये ही रिमोट की तरह संचालित किया जा सकता है।

ऐसा हमेशा से ही देखा गया है कि जिस भी उपकरण से हमें जितने ज्यादा फायदे होते हैं जरा सी भी चूक होने पर उसी उपकरण से उतने ही ज्यादा नुकसान भी पहुँचते हैं। यदि रेलगाड़ी हमारे दूर-दराज के यात्राओं को आसान बनता है तो आये दिन इससे बड़ी-बड़ी दुर्घटनाएं भी होती रहती हैं और ऐसी बातें सभी तरह के टेक्नोलॉजी पर फिट बैठते हैं।

इसे भी पढ़ें: यदि पानी में गिर जाए आपका स्मार्टफोन तो तुरंत कर लें ये काम

वायरलेस माउस और कीबोर्ड से क्या नुकसान हैं?

हर उपकरण की तरह वायरलेस माउस और कीबोर्ड के भी अपने नुकसान हैं। बिना वायर के होने की खासियत की वजह से इसने कंप्यूटर की दुनिया में क्रान्ति जरूर ला दी है लेकिन इससे यूजर्स के प्राइवेसी को बहुत ही बड़ा खतरा पहुँच सकता है। ऐसे वायरलेस उपकरण के जो ड्राइवर होते हैं उसके सिस्टम में लगे होने के समय कोई भी हैकर अपने जरा सी मेहनत के बदौलत आपके सिस्टम तक आसानी से अपनी पहुँच बना सकते हैं। आमतौर पर करीब 200 मीटर दूर से भी सिस्टम को हैक किया जा सकता है।

Computer Hacker
Image Source :- Google

हालांकि अब आधुनिक वायरलेस उपकरण के ड्राईवर में कुछ ख़ास प्रोग्रामिंग की जाती हैं जिस वजह से उसे क्रैक कर पाना सभी हैकरों के लिए आसान नहीं होता है। लेकिन फिर भी बहुत सारे ऐसे सुपर हैकर भी हैं जो इतने सारे सिक्युरीटी के बावजूद भी आसानी से आपके सिस्टम और उसमें सेव आपके पर्सनल डाटा तक आसानी से अपनी पहुँच बना सकते हैं।

इस न्यूज़ को भी पढ़ें: अगर आपके घर में भी कूलर है तो इसे जरूर पढें।

वायरलेस माउस और कीबोर्ड के इस्तेमाल के दौरान हैकिंग से बचने के लिए क्या करें?

इसलिए जब भी कभी वायरलेस माउस और कीबोर्ड इस्तेमाल करते समय आपका सिस्टम आपके कंट्रोल से बाहर अनुभव हो तो बिना देरी किये तत्काल उसके ड्राईवर को सिस्टम से निकाल दें। यदि ऐसा करने पर भी सिस्टम आपके कंट्रोल से बाहर हो तो बिना देरी किये उसे रीस्टार्ट जरूर कर दें अन्यथा न सिर्फ आपके सभी पर्सनल फाइल्स की डिटेल्स हैकरों तक पहुँच सकती है बल्कि आपके ईमेल आईडी वगैरह के पासवर्ड भी उनके हाथ लग सकती है जिससे आपको बहुत बड़े नुकसान का सामना करना पड़ सकता है।

आपको ये जानकारी कैसी लगी, इस बारे में कमेंट कर के जरूर बताइएगा। ऐसे हीं बेहतरीन जानकारी से भरे पोस्ट पढने के लिए हमारे न्यूजलेटर को सब्सक्राइब करना न भूलें। लाइक करें हमारे Facebook Page को और इससे संबंधित विडियो देखने के लिए सब्सक्राइब करें हमारे YouTube Channel को।



  इन न्यूज़ को भी जरूर पढ़ें :-

• अगर आप भी मोबाईल में पैटर्न लॉक लगा कर रखते हैं तो ये जरूर पढें।

• स्मार्टफोन का इस्तेमाल करते हैं तो स्वास्थ्य सम्बन्धी इन सुरक्षा के बारे में जरूर जान लें

• BSNL ने मारा चौका और उड़ा दी जियो की नींद, जानें इसके बेहतरीन डाटा प्लान के बारे में

• पढिए Xiaomi Redmi 4 के फीचर्स, स्पेसिफिकेशन और रिव्यू हिन्दी में

• खुशखबरी! रिलायंस जियो जल्द ही पेश करने जा रहा है एक और बड़ा धमाका


loading…


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *