स्वतंत्रता दिवस के भाषण में “हिन्दुस्तान” कहने पर पीएम मोदी के खिलाफ दर्ज करायी शिकायत

15 अगस्त को देश की आजादी के 71 साल पूरे होने के मौके पर पीएम नरेंद्र मोदी ने लाल किले से देश को संबोधित किया। स्वतंत्रता दिवस पर राष्ट्र के नाम दिए गए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भाषण के खिलाफ विवाद पैदा हो गया है। महाराष्ट्र के औरंगाबाद के एक वकील ने संबोधन की सामग्री पर सवाल उठाते हुए उनके खिलाफ एक शिकायत दर्ज कराई है।

हिंदुस्तान
Image Source: Google

शिकायत में कहा गया है प्रधानमंत्री मोदी के संबोधन की सामग्री संवैधानिक प्रावधानों का उल्लंघन है। शिकायत दर्ज कराने वाले वकील रामा विट्ठलराव काले ने यह शिकायत एमआईडीसी पुलिस थाने में दर्ज कराई है, जिसमें उन्होंने मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस को संबोधित किया है। काले ने दलील दी है कि मंगलवार को लाल किले के प्राचीर से दिए अपने 55 मिनट के भाषण में पीएम मोदी ने कई बार इंडिया और भारत का ‘हिंदुस्तान’ के तौर पर जिक्र किया।

इसे भी पढें: सरकार ने रद्द किए 11.44 लाख पैन कार्ड, जानिए आपका पैन एक्टिवेट है या नही

काले ने कहा, “संविधान के अनुच्छेद एक के अनुसार, इंडिया या भारत का उल्लेख है. संविधान में कहीं भी हिंदुस्तान का उल्लेख नहीं है, जो कि देश के धार्मिक नाम को प्रकट करता है।” उन्होंने कहा कि भारत का हिंदुस्तान के तौर पर जिक्र 125 करोड़ भारतीयों व दुनियाभर में भारतीयों का अनादर है। इससे सभी देश भक्त लोगों का अपमान हुआ है।

हिंदुस्तान
Image Source: Google

वकील विट्ठलराव काले ने कहा है, “भारत के प्रधानमंत्री के तौर पर इस तरह का भाषण गैर जिम्मेदाराना है और जिस नाम को संविधान में कोई स्थान नही दिया गया है उसका गलत संदर्भ देना (हिंदुस्तान के तौर पर), यह साफ तौर पर संविधान का अपमान है और अनुच्छेद एक का उल्लंघन है.” उन्होंने फडणवीस से अनुरोध किया है कि वह इसे संज्ञान में लेते हुए पीएम मोदी के खिलाफ प्रासंगिक धाराओं के तहत व राजद्रोह का मामला दर्ज करें।

बता दें कि फडणवीस के पास गृह विभाग का प्रभार भी है। वकील काले का कहना है कि प्रधानमंत्री के रूप में यह उनका कर्तव्य है कि वह स्वतंत्रता दिवस के भाषण में अपने संविधान को बनाए रखें और उसकी रक्षा करें। लेकिन वह ऐसा करने में विफल रहे हैं।

इसे भी पढें:

loading…


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *