जानिए क्यों की जाती है छठ पूजा, महापर्व व्रत कथा हिन्दी में

Download Our Android App by Clicking on 

छठ पूजा बिहार, उत्तर प्रदेश, झारखंड और बंगाल में मुख्य रूप से मनाया जाने वाला महापर्व है। यह व्रत सूर्य देव और षष्टी देवी को समर्पित है। इस व्रत में षष्टी माता की पूजा की जाती है। ऐसा माना जाता है कि शुद्धता, स्वच्छता और पवित्रता के साथ मनाया जाने वाला यह पर्व आदिकाल से मनाया जा रहा है। छठ व्रत में छठी माता की पूजा होती है और उनसे संतान की रक्षा का वर मांगा जाता है।

यह पर्व साल में दो बार मनाया जाता है। चैत्र महीने और कार्तिक महीने में लेकिन कार्तिक माह के शुक्ल पक्ष की षष्ठी तिथि को मनाए जाने वाले छठ व्रत का महत्व भविष्य पुराण में किया गया है। लोक मान्यताओं के अनुसार सूर्य षष्ठी या छठ व्रत की शुरुआत रामायण काल से हुई थी। इस व्रत को त्रेता युग में माता सीता ने और द्वापर युग में द्रौपदी ने भी किया था।


छठ पूजा
Source

छठ व्रत कथा (Chhath Vrat Katha)

पुराणों में वर्णित पौराणिक कथा के अनुसार प्रियव्रत नाम के एक राजा थे। उनकी पत्नी का नाम मालिनी था। परंतु दोनों की कोई संतान न थी। इस बात से राजा और उसकी पत्नी बहुत दुखी रहते थे। उन्होंने एक दिन संतान प्राप्ति की इच्छा से महर्षि कश्यप द्वारा पुत्रेष्टि यज्ञ करवाया। इस यज्ञ के फल स्वरूप रानी गर्भवती हो गई।

नौ महीने बाद संतान सुख को प्राप्त करने का समय आया तो रानी को मरा हुआ पुत्र प्राप्त हुआ। इस बात का पता चलने पर राजा को बहुत दुख हुआ। संतान शोक में वह आत्म हत्या का मन बना लिया। परंतु जैसे ही राजा ने आत्महत्या करने की कोशिश की उनके सामने एक सुंदर देवी प्रकट हुईं।

इसे भी पढें: Happy Chhath Puja: छठ पूजा की शुभकामनाएं और वॉलपेपर

देवी ने राजा को कहा कि “मैं षष्टी देवी हूं”। मैं लोगों को पुत्र का सौभाग्य प्रदान करती हूं। इसके अलावा जो सच्चे भाव से मेरी पूजा करता है मैं उसके सभी प्रकार के मनोरथ को पूर्ण कर देती हूं। यदि तुम मेरी पूजा करोगे तो मैं तुम्हें पुत्र रत्न प्रदान करूंगी।” देवी की बातों से प्रभावित होकर राजा ने उनकी आज्ञा का पालन किया।

राजा और उनकी पत्नी ने कार्तिक शुक्ल की षष्टी तिथि के दिन देवी षष्टी की पूरे विधि -विधान से पूजा की। इस पूजा के फलस्वरूप उन्हें एक सुंदर पुत्र की प्राप्ति हुई। तभी से छठ का पावन पर्व मनाया जाने लगा। छठ व्रत के संदर्भ में एक अन्य कथा भी है जिसके अनुसार जब पांडव अपना सारा राजपाट जुए में हार गए, तब द्रौपदी ने छठ व्रत रखा। इस व्रत के प्रभाव से उसकी मनोकामनाएं पूरी हुईं तथा पांडवों को राजपाट वापस मिल गया।

इसे भी पढें: छठ पूजा व्रत विधि और नियम हिन्दी में

छठ पूजा का महत्व (Importance of Chhath Puja)

छठ पूजा दुनिया का एकमात्र ऐसा पर्व है जिसमे डूबते सूरज की पूजा की जाती है। सूर्य देव एकमात्र ऐसे देवता हैं जो प्रत्यक्ष हैं यानि जिन्हे हम खुली आंखों से देख सकते हैं। इनकी रोशनी इस धरती पर जीवन चक्र को चलाने के लिए बहुत जरूरी है। इनकी जीवनदायिनी किरणों से फल, फूल, अनाज का निर्माण होता है। सूर्य देव की किरणें मनुष्य और दूसरे जीवों के लिए भी बहुत जरूरी है। इस दिन षष्टी देवी के साथ सूर्य देव की पूजा कर के उनके प्रति आभार प्रकट किया जाता है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन षष्टी माता और सूर्य देव से जो भी मांगा जाता है वो जरूर मिलता है।

**आप सभी पाठकों को छठ महापर्व की हार्दिक शुभकामनाएं**

लाइक करें हमारे Facebook Page को और इससे संबंधित विडियो देखने के लिए सब्सक्राइब करें हमारे YouTube Channel को।




इसे भी पढें:

loading…


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *